Daily Mirror, Be Part Of It….

इटली के डॉक्टर का दावा- चैम्पियंस लीग के मैच के कारण बर्गामो शहर बना कोरोनावायरस का केंद्र, मैच के 2 दिन बाद संक्रमण से हुई पहली मौत

Share This :

खेल डेस्क. कोरोनावायरस के कारण दुनियाभरमें सबसे ज्यादामौतें इटली में हुई हैं। यहां अब तक 7 हजार से ज्यादा लोग इस वायरस के कारण जान गंवा चुके हैं। इसमें भी अकेले 1 हजार लोगों की मौत बर्गामो शहर में हुई। इटली में इस वायरस से सबसे प्रभावित यही राज्य है। यहां दो दिन पहले संक्रमितों की संख्या 7 हजार थी। कोविड-19 के डर के बीच इटली के इम्यूनॉलिस्ट फ्रांसिस्को फोके ने बड़ा दावा किया है। मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक, इटली के इस डॉक्टर का कहना है कि इस महामारी के देश में फैलने के कारण चैम्पियंस लीग का एक मैच है।

यह मुकाबला 19 फरवरी को अटलांटा और वेलेंसिया के बीच मिलान शहर के सैन सीरो स्टेडियम में खेला गया था। अटलांटा ने यह मैच 4-1 से जीता था। बर्गामोके करीब 40 हजार लोग अपनी टीम अटलांटा का मैच देखने के लिए मिलान पहुंचे थे। वहीं, मेहमान क्लब वेलेंसिया के 2500 से ज्यादा फैन्स भी यहां आए थे। पहले यह मैच बर्गामो में ही खेला जाना था। लेकिन वहां के जेविस स्टेडियम में दर्शक क्षमता कम होने के कारण इसे मिलान में कराया गया। इस मैच के दो दिन बाद ही इटली में इस वायरसके स्थानीय संक्रमण से पहली मौत का मामला सामने आया। इसके बाद हालात इस कदरबेकाबू हुए कि इटली का यह शहर कोरोनावायरस का केंद्र बन गया।

बर्गामो के डॉक्टर उस मैच को ‘जैविक बम’ करार दे चुके

बर्गामो के मेयर जियॉर्जियो गोरी ने इस हफ्ते विदेशी मीडिया से चर्चा में कहा था- अगर यह बात सही है कि जनवरी में ही यह वायरस यूरोप में आ गया था तब बहुत मुमकिन है कि चैम्पियंस लीग का मैच देखने पहुंचे बर्गामो के 40 हजार लोगों ने एक-दूसरे को कोरोना से संक्रमित किया हो। मेयर के अलावा बर्गामो अस्पताल के पल्मोनॉजी डिपार्टमेंट के प्रमुख भी उस मैच को ‘जैविक बम’ करार दे चुके हैं। क्योंकि इस मैच को देखने सैन सीरो स्टेडियम पहुंचे ज्यादातर लोगों ने पब्लिक ट्रांसपोर्ट का इस्तेमाल किया था। ऐसे में एक-दूसरे से सम्पर्क में आने से लोगों के संक्रमित होने की पूरी आशंका है।

‘हालात से उबरने के बाद स्टेडियम में मौजूद 40 हजार लोगों तक पहुंचेंगे’

बर्गामो के पोप जॉन अस्पताल के आईसीयू इंचार्ज लुका लोरिनी ने एक दिन पहले कहा था कि उस मैच में अटलांटा ने 4 गोल किए थे। ऐसे में स्टेडियम में बैठे 40 हजार दर्शक कम से कम 4 बार एक-दूसरे से गले मिले होंगे या किस किया होगा। ऐसे में यह वायरस के फैलनेका बहुत बड़ा कारण हो सकता है। हालांकि, इस वक्त में हम युद्ध लड़ रहे हैं। लेकिन जब इससे उबर जाएंगे, तो मैं आपको विश्वास दिलाता हूं कि हम मैच देखने गए उन 40 हजार लोगों तक पहुंचेंगे और यह जानने की कोशिश करेंगे कि उसमें से कितने लोग कोरोना पॉजिटिव थे। फिलहाल देश में इस पर बहस हो रही है।

अटलांटा के कप्तान ने कहा- यह वाकई डराने वाला खुलासा है

जब से यह जानकारी सामने आई है, तब से अटलांटा के कप्तान एलेग्जेंड्रो गोमेज परेशान हैं। उनका कहना है कि यह वाकई डराने वाला है। बर्गामो शहर की आबादी एक लाख बीस हजार है। उस दिन 40 हजार लोग सैन सीरो स्टेडियम में मौजूद थे। अटलांटा के लिए वह ऐतिहासिक मैच था। तभी बड़ी संख्या में फैन्स पहुंचे थे। मेरी पत्नी को भी मिलान पहुंचने में तीन घंटे लगे थे, जबकि सामान्य तौर पर यह सफऱ 40 मिनट का है। वहीं, मैच के बाद वेलेंसिया टीम के 35 फीसदी खिलाड़ी और स्टाफ भी कोरोना पॉजिटिव पाए गए थे। टीम मैनेजमेंट भी इसे मिलान में हुए मैच से ही जोड़कर देख रहा है।

बर्गामो में जगह कम पड़ी तो लोगों को दूसरे राज्यों में दफनाया गया

बर्गामो में इस वायरस से किस कदर हालात बेकाबू हैं। इसका अंदाजा इससे लगाया जा सकता है कि वहां का कब्रिस्तान लाशों के ढेर से पट गया था। ऐसे में फौज की मदद लेनी पड़ी और कोविड-19 से जान गंवाने वाले लोगों को सेना के ट्रकों में पड़ोसी राज्यों में दफनाने के लिए ले जाया गया। यूरोप में सबसे ज्यादा 70 हजार संक्रमित इटली में ही हैं। वहीं मरने वालों की संख्या भी 7 हजार के पार पहुंच गई है। जो चीन से दोगुनी है। इटली के बाद स्पेन में सबसे ज्यादा 48 हजार कोरोना पॉजिटिव पाए गए हैं। यहां मरने वालों का आंकड़ा चीन से ज्यादा हो गया है।



Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
पिछले महीने 19 फरवरी को मिलान के स्टेडियम में अटलांटा और वेलेंसिया के बीच मैच हुआ था। इसमें बर्गामो के 40 हजार लोग पहुंचे थे।

Powered by WPeMatico

%d bloggers like this: