दुनियाभर के क्रिकेटर कुछ भी कहें, पर मुख्य बात यह है कि क्या गांगुली आईसीसी में जाने को तैयार हैं?

आईपीएल के मुकाबले क्या इस साल होंगे और आईसीसी का अगला चेयरमैन कौन होगा। ये हफ्ते की बड़ी खबरें रहीं। दोनों मामले भारतीय क्रिकेट से जुड़े हैं। माइकल वॉन के बाद माइकल आर्थटन ने अपने एक कॉलम में लिखा कि आखिर आईपीएल का आयोजन क्यों हो सकता है। बोर्ड भी आयोजन को लेकर पर्दे के पीछे काम कर रहा है। अगर स्थिति सही रही तो देश में ही मुकाबले कराए जा सकते हैं। नहीं तो 2009 और 2014 की तरह बाहर भी लीग कराई जा सकती है।

आईपीएल को अब तक कैंसिल नहीं करने के पीछे सबसे बड़ा कारण पैसा है। लीग के कैंसिल होने से 3000 से 3500 करोड़ का नुकसान हो सकता है। हर कोई खुश नहीं है कि आईपीएल को अक्टूबर-नवंबर में होने वाले टी-20 वर्ल्ड कप पर प्राथमिकता दी जानी चाहिए।

आईपीएल के रद्द होने से ज्यादा नुकसान होगा
ऑस्ट्रेलिया के पूर्व कप्तान इयान चैपल ने कहा है कि क्रिकेट ऑस्ट्रेलिया और ऑस्ट्रेलियाई खिलाड़ियों को अपने देश के बारे में अधिक चिंतित होना चाहिए। कई अन्य खिलाड़ियों ने भी ऐसी बातें कही हैं। आईपीएल के नहीं होने से बड़ा नुकसान होगा। लेकिन यदि टी-20 वर्ल्ड कप स्थगित किया जाता है तो नुकसान कम होगा। एक अन्य खबर की बात की जाए तो दक्षिण अफ्रीका के क्रिकेट डायरेक्टर ग्रीम स्मिथ ने आईसीसी के चेयरमैन के लिए सौरव गांगुली का समर्थन किया है। पर मुख्य बात यह है कि क्या गांगुली आईसीसी में जाना चाहते हैं।

जुलाई भारत और अन्य क्रिकेट बोर्ड के लिए महत्वपूर्ण
बोर्ड अध्यक्ष के रूप में उनका कार्यकाल जुलाई में खत्म हो रहा है। लोढ़ा कमेटी की सिफारिशों के अनुसार गांगुली को तीन साल के कूलिंग पीरियड में जाना होगा। हालांकि इसे लेकर सुप्रीम कोर्ट में याचिका दायर की गई है। इस मामले में क्या निर्णय आता है, इस पर नजर होगी। कुल मिलाकर जुलाई भारत और अन्य बोर्ड के लिए महत्वपूर्ण होने वाला है।



Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
लोढ़ा कमेटी की सिफारिशों के अनुसार बीसीसीआई अध्यक्ष सौरव गांगुली को 3 साल के कूलिंग पीरियड में जाना होगा। हालांकि इसे लेकर सुप्रीम कोर्ट में याचिका दायर की गई है। -फाइल फोटो

Powered by WPeMatico

%d bloggers like this: