हर साल 25 मई को मनाया जाएगा श्रद्धांजलि दिवस, मारे गए महेंद्र कर्मा के बेटे छविंद्र बोले- ईमानदारी से जांच हो यह ज्यादा जरूरी

झीरम कांड की याद में अब तक कांग्रेस पार्टी स्तर पर कार्यक्रम करती रही है। अब इसे सरकारी रूप दिया जा रहा है। शनिवार को सरकार ने इसे लेकर घोषणा की। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने ट्वीटर पर लिखा कि 25 मई 2013 को झीरम घाटी में नक्सल हिंसा के शिकार हुए प्रदेश के वरिष्ठ कांग्रेस नेताओं, सुरक्षा बलों के जवानों और विगत वर्षों में नक्सल हिंसा के शिकार हुए सभी लोगों की स्मृति में 25 मई को प्रतिवर्ष छत्तीसगढ़ में अब ’झीरम श्रद्धांजलि दिवस’ के रूप में मनाया जाएगा।

झीरम हमला उस वक्त हुआ, जब साल 2013 में कांग्रेस पार्टी तत्कालीन भारतीय जनता पार्टी की सरकार के खिलाफ परिवर्तन यात्रा निकाल रही थी। नक्सलियों के हमले में कांग्रेस के नंद कुमार पटेल, विद्याचरण शुक्ल, महेंद्र कर्मा समेत कुल 30 से ज्यादा लोगों की मौतें हुई थीं। हमले में मारे गए कांग्रेस नेता महेंद्र कर्मा के बेटे छविंद्र कर्मा ने सरकार की घोषणा पर कहा,जब तक दोषियों के खिलाफ कार्रवाई नहीं होती, परिजन की शहादत बेकार है। जिन लोगों ने इस घटना को अंजाम दिया वो लोग बाहर घूम रहे हैं। हमारी यही मांग है कि झीरम कांड की ईमानदारी से जांच हो, यह ज्यादा जरूरी है।

झीरम कांड जांच अधर में

  • झीरम घटना के इतने वर्ष बीतने के बाद भी अब तक कोई स्पष्ट निष्कर्ष नहीं निकल पाया है।
  • नवंबर-2019 में एनएआईए ने झीरम कांड में शामिल महिला नक्सली सुमित्रा पुनेम को गिरफ्तार किया गया।
  • अब तक इस घटना से जुड़े होने के दावे के साथ 11 आरोपियों को पकड़ा जा चुका है, 27 नक्सली अब भी फरार हैं।
  • पिछले विधानसभा चुनाव के बाद जब कांग्रेस सत्ता में आई तब झीरम कांड की जांच दोबारा किए जाने की सुगबुगाहट तेज हुई।
  • 29 जनवरी 2020 यानी इसी साल बिलासपुर हाई कोर्ट में सरकार ने नए गवाह पेश करने की बात रखी इस याचिका को खारिज कर दिया गया था।
  • याचिका खारिज होने के बाद महाधिवक्ता सतीश चंद्र वर्मा ने कहा कि तकनीकी आधार पर याचिका अस्वीकार हुई है। राज्य सरकार डिवीजन बेंच के फैसले को सुप्रीम कोर्ट में चुनौती देगी।


Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
छविंद्र कर्मा के पिता महेेंद्र कर्मा भी झीरम हमले में मारे गए थे, उनकी मां देवती कर्मा इन दिनों दंतेवाड़ा से विधायक हैं, छविंद्र के भाई आशीष को डिप्टी कलेक्टर के पद पर नौकरी भी सरकार की ओर से दी गई है।

Powered by WPeMatico

%d bloggers like this: