प्रदेश में 31 नए पॉजिटिव, एक्टिव केस 216 हुए, मुंबई से लौट रहे दो प्रवासी श्रमिकों की मौत; स्कूल खुलने तक बच्चों को मिडडे मील में राशन मिलेगा

छत्तीसगढ़ में सोमवार शाम तककाेरोना संक्रमण के 31 नए केस आ गए हैं। इनमेंमुंगेली से 26, राजनांदगांव ,बलरामपुर व बिलासपुर से 1-1,मरीज मिले हैं। जबकि पहली बार धमतरी में भी 2 मामले सामने आए हैं। इसके बादप्रदेश में कुल एक्टिव मरीज़ों की संख्या 216 हो गई है।जबकि प्रदेश में संक्रमित मरीजों का आंकड़ा 283 पहुंच गया है।

दूसरी ओररविवार देर शाम दो प्रवासी श्रमिकों की तबीयत बिगड़ने के बाद मौत हो गई। दोनों श्रमिक मुंबई से बस में लौट रहे थे और उन्हें पश्चिम बंगाल जाना था। भिलाई में जहां श्रमिक ने रास्ते में दम तोड़ दिया, वहीं महासमुंद के पिथौरा में अस्पताल ले जाने के दौरान मजदूर की मौत हो गई।

छत्तीसगढ़ में कोरोना
राज्य में कोरोना संक्रमण के रविवार को 36 नए मामले सामने आए। इनमें सबसे ज्यादा 19 केसबिलासपुर से हैं। संक्रमितों में 4माह का बच्चा और उसकी मां भी शामिल है।जबकिबलरामपुर से 5, बलौदाबाजार से 4,सरगुजा व कोरिया से 2-2 और मुंगेली, गरियाबंद, बेमेतरा औररायगढ़ से 1-1 नएसंक्रमित मिले।इसकी पुष्टि स्वास्थ्य विभाग ने की है।वहीं, बिलासपुर में भर्ती जांजगीर के दो और अंबिकापुर में भर्ती कोरिया के एकमरीजको और छुट्‌टी मिल गई है।

इससे पहले शनिवार को44नए मामले सामने आए थे। इनमें राजनांदगांव से 10,बिलासपुर से 9, मुंगेली से 9, सरगुजा से 3, कोरिया व रायगढ़ से 4-4, गौरेला-पेंड्रा-मरवाही से 3और जशपुर व बलौदाबाजारसे1-1 पॉजिटिव मरीजकी पुष्टि हुई है। जशपुर औरगौरेला पेंड्रा मरवाही में पहला केस है।वहीं, एम्स रायपुर से बालाेद के 2 मरीज ठीक भी हुए हैं।

शुक्रवारको भी एम्स ने 20 नए मामलों की पुष्टि की थी। इसमें बलौदाबाजार से 6 नए मामले सामने आए। इसके अलावा बालोद से 4, कवर्धा 5, बलौदाबाजार 4, गरियाबंद 3, दुर्ग और राजनांदगांव से 2-2 कोरोना मरीजों की पुष्टि हुई है। इससे पहले सुबह कोरबा से 12, कांकेर से 3 और बेमेतरा से 1 मरीज मिले थे। अभी तक इनमें से 64लोग ठीक होकर घर लौटे हैं।

  • 283 संक्रमित मिले :दुर्ग-10, राजनांदगांव-23, बालोद-18, बेमेतरा-2, कवर्धा-13, रायपुर-8, धमतरी-2,बलौदाबाजार-19, गरियाबंद-5, बिलासपुर-40, रायगढ़-10, कोरबा-41, जांजगीर-15, मुंगेली-39, गौरेला-पेंड्रा-मरवाही-3, सरगुजा-7, कोरिया-7, सूरजुपर-7, बलरामपुर-7, जशपुर-1, कांकेर-5

  • 216 एक्टिव केस :राजनांदगांव-22, बालोद-16, बेमेतरा-2, कवर्धा-7, रायपुर-1, धमतरी-2,बलौदाबाजार-19, गरियाबंद-5, बिलासपुर-39, रायगढ़-10, कोरबा-13, जांजगीर-10, मुंगेली-39, गौरेला-पेंड्रा-मरवाही-3, सरगुजा-7, कोरिया-6, सूरजपुर-1, बलरामपुर-7, जशपुर-1, कांकेर-5
  • 67मरीज स्वस्थ हुए :दुर्ग-10, राजनांदगांव-1, बालोद-2,कवर्धा-6, रायपुर-7, बिलासपुर-1, कोरबा- 28, जांजगीर-5, सूरजपुर- 6, कोरिया-1
  • प्रदेश में भर्ती मरीज :एम्स रायपुर-48, कोविड-19 अस्पताल माना-35, कोविड-19 बिलासपुर-24, मेडिकल कॉलेज अंबिकापुर-11, मेडिकल कॉलेज रायगढ़-10, मेडिकल कॉलेज राजनांदगांव-21
  • पहला मामला :राज्य में कोरोना पॉजिटिव का पहला मामला रायपुर में मार्च के महीने में सामने आया था, वह विदेश से लौटी युवती थी।
  • कंटेनमेंट जोन :कवर्धा-6, राजनांदगांव-4, बालोद-11, दुर्ग-1, गरियाबंद-4, रायपुर-1, बलौदाबाजार-9, बिलासपुर-9, मुंगेली-2, कोरबा-5, जांजगीर-6, रायगढ़-3, कोरिया-4, सूरजपुर-3, सरगुजा-4, कांकेर-5, बलरामपुर-1, जशपुर-1, बेमेतरा-1

मलकानगिरी में एक साथ 8 नए केस आने के बाददोरनापाल से सटे ओडिशा बाॅर्डर को इसी तरह से सील किया गया ।

स्कूल में या फिर घर-घर जाकर बांटा जाएगा मिडडे मील

स्कूल शिक्षा विभाग ने प्राइमरी और मिडिल स्कूल के बच्चों को मध्याह्न भोजन के लिए राशन देने के बंदोबस्त किए हैं। इसके लिए आदेश जारी कर दिया गया है। सभी स्कूली बच्चों के पालकों को घर पहुंचाकर या फिर स्कूल बुलाकर राशन वितरित किया जाएगा। रसोइयों को कुकिंग कॉस्ट भी नहीं देने का निर्णय लिया है। वहीं, चावल, दाल औरतेल समेत अन्य किसी भी प्रकार के खाद्यान्न के लिए तय की गई मात्रा में किसी भी प्रकार की कमी नहीं होने देने का आदेश दिया है। साथ ही पालकों वितरण के दौरान सोशल डिस्टेंसिंग का पालन भी करने को कहा गया है।

किसान-मजदूर के पास पैसा आने से नहीं होगी मंदी
मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने कहा है कि प्रदेश के किसानों, मजदूरों और वनवासियों की जेब में पैसा आने से उनकी आर्थिक स्थिति मजबूती होगी। उन्होंने कहा, किसानों को उनकी उपज का वाजिब दाम मिले, इसके लिए किसान न्याय योजना शुरू की है। इस योजना से प्रदेश के 19 लाख किसानों को 5750 करोड़ रुपए 4 किश्तों में दिया जा रहा है। दलहन-तिलहन उत्पादक और भूमिहीन किसानों को भी इस योजना में शामिल करेंगे। वर्तमान में 90 प्रतिशत से अधिक औद्योगिक प्रतिष्ठान शुरू हो चुके हैं। जो व्यवसाय शहरी मजदूरों को रोजगार देते हैं हमारी कोशिश है कि वो जल्दी से जल्दी खुले।

वनोपज संग्रहण से आदिवासियों को मिलेंगे 25 सौ करोड़
लाॅकडाउन के बावजूद भी अभी करीब 26 लाख मजदूर मनरेगा में काम कर रहे हैं। जिनके पास जॉब कार्ड मनरेगा का नहीं है उसको भी तत्काल कार्ड बनेगा। दूसरी तरफ लघु वनोपज संग्राहक वनवासियों से तेंदुपत्ता, महुआ, इमली की खरीदी की शुरुआत की है। जंगल में रहने वाले हमारे भाई बहन हैं उनकी जेब में 2500 करोड़ रुपए आएगा। मुख्यमंत्री ने कहा कि किसान, मजदूर और आदिवासी जो वनांचल में रहते हैं। इन सबकी जेब में पैसा आएगा। इनकी क्रय शक्ति बढ़ेगी तो ग्रामीण व्यवसाय हो या शहर का बढ़ेगा ही। देश में मंदी का दौर रहा, लेकिन छत्तीसगढ़ में कोई प्रभाव नहीं पड़ा। इस वर्ष भी ऐसा होगा।

कवर्धा : कोरोना संक्रमण की रोकथाम को लेकर सरकारी तंत्र की बड़ी लापरवाही सामने आई है। कंटेनमेंट जोन घोषित ग्राम पुटपुटा के क्वारैंटाइन सेंटर में रुके 14 श्रमिक शनिवार देर रात भाग गए। रविवार सुबह उनके फरार होने की सूचना मिली। भागे हुए श्रमिक अपने गांव-घर में छिपे थे। 14 में से 11 श्रमिकों को पकड़कर वापस क्वारैंटाइन सेंटर लाया गया, जबकि 3 श्रमिक अभी भी फरार बताए जा रहे हैं। क्वारैंटाइन सेंटर से भागे 14 में से 7 श्रमिक ग्राम चाटा, 6 श्रमिक आमाटोला और 1 डोकरी घटिया का रहने वाला है। गांव पहुंचने पर इन्हें पुटपुटा में बने प्राइवेट स्कूल में क्वारैंटाइन किया गया था। 14 दिन का समय पूरा करने के बावजूद इन्हें छुट्टी नहीं दी जा रही थी।

राजनांदगांव केगंडई के भुरभुसी में बनाए गए क्वारैंटाइन सेंटर में रखे गए मजदूर शराब पार्टी कर रहे थे। उन्होंने टिक-टॉक पर इसका वीडियो भी पोस्ट किया। इसके बाद मामला दर्ज किया गया है।

राजनांदगांव : क्वारैंटाइन सेंटर में कुछ लोगों ने शराब पार्टी करते हुए पहले टिक-टॉक वीडियो बनाया फिर इसे सोशल मीडिया में पोस्ट कर दिया। मामले की जानकारी जैसे ही पंचायत और आसपास के लोगों को लगी शिकायत थाने पहुंची। मामला गंडई के भुरभुसी का है। यहां स्कूल को क्वारैंटाइन सेंटर बनाया गया है। जहां 22 मई की रात पांच मजदूर शशि साहू, राधे साहू, होलेंद्र यादव, नीलेश साहू और परेटन साहू ने सेंटर के भीतर ही जमकर शराब पार्टी की। शराब पीते हुए इन मजदूरों ने टिक-टॉक वीडियो भी बना लिया। रात में ही इसे अलग-अलग वाट्सएप ग्रुप में पोस्ट किया। सुबह पंचायत प्रतिनिधियों और गांव के अन्य लोगों को वीडियो वायरल होने की जानकारी मिली।

बिलासपुर : बिल्हा ब्लॉक के रहंगी और मुड़पार गांव के क्वॉरैंटाइन सेंटर में मजदूर मुसीबत में हैं। कमरे नहीं होने के कारण मजदूर सीढ़ी, बरामदे व कार्यक्रम मंच पर पसरे हुए हैं। रहंगी सेंटर में श्याम कुमार और संतोष का परिवार लू के थपेड़ों के बीच मासूम बच्चों को लेकर खुले मंच पर पड़ा रहा। मजदूरों की नियमित रूप से किसी के स्वास्थ्य की जांच नहीं हो रही है। वहीं मुड़पार ग्राम पंचायत स्कूल बिल्डिंग में 144 मजदूर रखे गए हैं। 30 मजदूर बच्चों के साथ दिन और रात बरामदे में पड़े रहते हैं। 10 दिन हो गए हर मजदूर से 7-7 किलो चावल मंगा कर उन्हीं से खाना पकवाया जा रहा है। मजदूरों ने बताया कि सरपंच के कहने पर सभी ने अपने अपने घरवालों से पंचायत में चावल जमा करवाया है।

बिलासपुर केबिल्हा ब्लॉक के रहंगी और मुड़पार गांव के क्वॉरैंटाइन सेंटर में मजदूरों के लिए कोई व्यवस्था नहीं है। खुले में पड़े हैं और खाने के लिए घर से राशन का इंतजाम करना पड़ रहा है।

जशपुरनगर : सन्ना के क्वारैंटाइन सेंटर में युवक की पिटाई सिर्फ इसलिए कर दी गई क्यों कि उसने तहसीलदार से साफ पानी देने की मांग की थी। सन्ना के क्वारैंटाइन सेंटर में ग्रीन जोन गढ़वा से आए परिवार को रखा गया है। पीड़ित रितेश गुप्ता ने बताया कि तीन दिन गुजरने के बाद भी उसका अब तक टेस्ट नहीं किया गया है। सेंटर में पीने का पानी गंदा दिखने पर उसने जानकारी तहसीलदार को दी थी। इस पर उन्होंने ब्लीचिंग पावडर का इस्तेमालकर स्वच्छ पानी की व्यवस्था करने के लिए पंचायत से कहा था, पर तहसीलदार के जाते ही रोजगार सहायक बंसत पाठक ने आक्रोशित होकर क्वारैंटाइन सेंटर में निवासरत रितेश गुप्ता की जमकर पिटाई कर दी।



Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
ये तस्वीर बिलासपुर के तिफरा ओवरब्रिज के पास की है। एक मजदूर पिता अपने बेटे को कंधे पर उठाकर कई घंटों से ऐसे ही लेकर चल रहा है। ये मजदूर झारखंड से आया है और रायपुर की ओर जा रहा था।

Powered by WPeMatico

%d bloggers like this: