वित्त मंत्री ने बैंकों से कहा- सीबीआई, सीवीसी से घबराए बिना योग्य ग्राहकों को लोन दें, सरकार 100% गारंटी दे रही

वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने शनिवार को बताया कि बैंकों कोयह निर्देश दिया गया है कि वे तीन सी यानीसीबीआई, सीवीसी और सीएजी से घबराए बिना योग्य ग्राहकों को स्वचालित रूप से कर्ज दें।

उन्होंने कहा कि शुक्रवार को सरकारी बैंकों और वित्तीय संस्थानों के सीईओ और एमडी के साथ हुई बैठक में स्पष्ट निर्देश दिए गए हैं कि सरकार लोन पर 100 फीसदी गारंटी दे रही है, इसलिए लोने देने में डरने की जरूरत नहीं है। उन्होंनेभाजपा नेता नलिन कोहली के साथ बातचीत में कहा। पार्टी ने इस वीडियो को सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म पर शेयर किया है।

वित्त मंत्री ने 100 फीसदी गांरटी की बात कही

सीतारमण ने कहा कि कल मैंने फिर से कहा कि अगर लोन देने का फैसला गलत साबित हुआ और इससे नुकसान हुआ, तो सरकार ने 100 फीसदी गारंटी दी है। किसी भी बैंक अधिकारी या बैंक को दोषी नहीं ठहराया जाएगा। इसलिए बिना डर के वे खुद फैसला लें। जो भी अतिरिक्त टर्म लोन या अतिरिक्त वर्किंग कैपिटल लोन के योग्य हों, उन्हें लोन दिया जाए।
वित्त मंत्री ने बैंकों से कहा- सीबीआई, सीवीसी से घबराए बिना योग्य ग्राहकों को लोन दें, सरकार 100% गारंटी दे रही है।

सरकार ने एमएसएमई को 3 लाख करोड़ का पैकेज दिया

20.97 लाख करोड़ रुपए के आत्मनिर्भर भारत पैकेज के तहत सरकार ने एमएसएमई सेक्टर के लिए 3 लाख करोड़ रुपए की इमर्जेंसी क्रेडिट लाइन गारंटी स्कीम (ईसीएलजीएस) की घोषणा की थी। एमएसएमई सेक्टर पर कोरोनावायरस संकट का बेहद नकारात्मक असर पड़ा है।

यह माना जाता है कि बैंक अधिकारी वाजिब और सही फैसले इसलिए नहीं ले पाते हैं, क्योंकि उन्हें तीन सी- केंद्रीय जांच ब्यूरो (सीबीआई), केंद्रीय सतर्कता आयोग (सीवीसी) और नियंत्रक एवं महालेखापरीक्षक (सीएजी) द्वारा प्रताड़ित किए जाने का डर सताता रहता है।

सरकार ने जांच एजेंसियों के डर को कम करने के लिए कदम उठाए

वित्त मंत्री ने कहा कि सीबीआई, सीवीसी और सीएजी के डर को कम करने के लिए वित्त मंत्रालय ने कई कदम उठाए हैं। इसके तहत कई ऐसी अधिसूचनाओं को वापस लिया गया है, जिसके कारण बैंक अधिकारियों में डर बैठ गया था। ये डर बिल्कुल वाजिब थे। पिछले 7-8 महीने में मैंने बैंक अधिकारियों को कम से कम तीन बार बैठक लेकर कहा है कि उन्हें थ्री सी से नहीं डरना चाहिए।

वित्त मंत्री ने पैकेज के लिए समग्र नजरिया अपनाया

वित्त मंत्री द्वारा आत्मनिर्भर भारत पैकेज के दिए ब्योरे की यह कहकर आलोचना की जा रही है कि उन्होंने आतिथ्य, वाहन और नागरिक उड्‌डयन सेक्टरों जैसे महत्वपूर्ण क्षेत्रों के लिए कोई राहत नहीं दी। इस आलोचना का जवाब देते हुए मंत्री ने कहा कि सरकार ने सेक्टर आधारित नहीं, बल्कि समग्र नजरिया अपनाया है। कृषि और बिजली क्षेत्र को छोड़कर सरकार ने सुधार कार्यों के लिए किसी अन्य सेक्टर का जिक्र नहीं किया है।

एमएसएमई को दिए पैकेज का फायदा दूसरे सेक्टरों को भी मिलेगा

सीतारमण ने कहा कि जिसे हम एमएसएमई पैकेज कह रहे हैं, उसमें एमएसएमई तो शामिल है ही, उस पैकेज का लाभ अन्य सेक्टरों को भी मिल सकता है। इसलिए आप जिस सेक्टर का नाम ले रहे हैं, वे भी इस पैकेज से लाभ हासिल कर सकते हैं।

पैकेज में यह नजरिया अपनाया गया है कि यदि किसी कंपनी ने बैंक से एक निश्चित सीमा तक लोन लिया है, या उसमें एक निश्चित सीमा तक निवेश हुआ है, या उसका एक निश्चित टर्नओवर है, तो यदि वे कारोबार को फिर से शुरू करने के लिए अतिरिक्त टर्म लोन या वर्किंग कैपिटल लेना चाहते हैं, तो वे ले सकते हैं।

डिजिटल तरीके से लोन देने पर जोर

वित्त मंत्री ने उम्मीद जताई कि पहली जून से बिना किसी कोलैटरल के बैंकों से नकदी का प्रवाह शुरू हो जाएगा। सीतारमण के मुताबिक बैंक अधिकारियों के साथ हुई मीटिंग में उन्होंने इस बात पर जोर दिया कि लोन सरल तरीके से मंजूर किए जाने चाहिए। यदि संभव हो तो डिजिटल तरीके से लोन दिए जाने चाहिए, ताकि कम से कम लोगों के बीच सम्पर्क हो।



आज की ताज़ा ख़बरें पढ़ने के लिए दैनिक भास्कर ऍप डाउनलोड करें
वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने कहा- हमने पिछले 7-8 महीने में बैंक अधिकारियों को कम से कम तीन बार बैठक लेकर कहा है कि उन्हें जांच एजेंसियों से नहीं डरना चाहिए। – फाइल

Powered by WPeMatico

%d bloggers like this: