गर्मी में पहली बार सड़कों पर पानी का मरुस्थल जैसा आभास

इस साल लगातार बारिश की वजह से राजधानी में गर्मी कम पड़ी, लेकिन तीन-चार दिन से बढ़ी गर्मी अब दोपहर में शहर को वीरान करने लगी है। पश्चिमी रेगिस्तान की ओर से आनेवाली चटक गर्म हवा ने पहली बार रायपुर में दोपहर का तापमान 44 डिग्री पर पहुंचा दिया। लाॅकडाउन के कारण ज्यादातर सड़कें वैसे ही सूनी हैं, गर्मी ने इन्हें और वीरान कर दिया है। तेज गर्मी से सूनी सड़कों पर पानी नजर आने लगा है, जैसा रेगिस्तान में दिखता है। मौसम विभाग का अनुमान है कि शनिवार को भी दोपहर का तापमान 45 डिग्री के आसपास भी पहुंच सकता है। ऐसा होते ही यहां लू की घोषणा कर दी जाएगी।
सतह पर ज्यादा गर्मी से मरीचिका
मौसम विज्ञानियों के अनुसार ज्यादा गर्मी से किसी भी सतह के पास की हवा ज्यादा गर्म हो जाती है और यह किरणों को परावर्तित करने लगती है। पानी का एहसास इसी से होता है, यही मृग मरीचिका है।
डिहाईड्रेशन-अल्ट्रावायलेट का खतरा
विशेषज्ञों के अनुसार पारा 44 डिग्री है। अल्ट्रावायलेट किरणें ज्यादा बरस रही हैं। हवा में नमी 12 फीसदी ही है। अर्थात धूप में निकले तो पसीने के जरिए ज्यादा पानी निकलेगा, इससे डिहाइड्रेशन भी होगा।



Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
For the first time in summer, the desert looks like water on the roads

Powered by WPeMatico

%d bloggers like this: