मनरेगा में काम करने नहीं पहुंचा रायपुर का ग्रामीण, रुपए लेने के लिए अधिकारी पर बनाया नाम जोड़ने का दबाव

लॉकडाउन के बीच ग्रामीण इलाकों में लोगों को काम देने के मकसद से मनरेगा के कार्य हो रहे हैं। इसमें भी कुछ ग्रामीण फर्जी तरीके से फायदा उठाने की फिराक में हैं। ऐसा ही एक मामला शहर के खरोरा इलाके में सामने आया। मनरेगा रजिस्टर में नाम दर्ज कराने को लेकर गांव में हंगामा हो गया। एक ग्रामीण खुदाई के काम पर नहीं आया। उसने अपने बेटे को भेज कर रजिस्टर में नाम लिखवाने के लिए दबाव बनाया। जब महिला अधिकारी नहीं मानीं तो वह खुद मौके पर पहुंचा और गाली गलौज शुरू कर दी।

पुलिस ने बताया कि मजीठा गांव में मनरेगा के तहत सड़क निर्माण का काम चल रहा है। गांव का ही रहने वाला दिलीप मारकंडेय अपने बेटे निर्मल के साथ वहां काम करने आता है। वह शुक्रवार सुबह काम पर नहीं आया। इसके बाद भी उसका बेटा रोजगार सहायक सत्यवती महिलांगे पर रजिस्टर पर नाम दर्ज कराने के लिए दबाव बना रहा था। उनसे विवाद करने लगा । पुलिस ने दिलीप के खिलाफ केस दर्ज कर लिया है।



Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
मनरेगा के तहत राज्य में 26.10 लाख से अधिक श्रमिकों को रोजगार मिलने का दावा किया जा रहा है, तस्वीर राज्य के ग्रामीण इलाके की।

Powered by WPeMatico

%d bloggers like this: