वसूली करने आए दो नक्सली लीडर ढेर, पूर्व गनमैन ने गुंडाधुर की पहचान की

जिले के गादीरास थाना क्षेत्र के मनकापाल के जंगलों में शनिवार को हुए एक एनकाउंटर में पुलिस ने दो नक्सलियों को मार गिराया है। पुलिस और नक्सलियों के बीच दोपहर को हुई मुठभेड़ में डीआरजी के जवानों ने दो हार्डकोर नक्सली गुंडाधुर उर्फ केसा सोढ़ी व आयतु को मार गिराया। मुठभेड़ स्थल से जवानों ने दो पिस्टल और एक देसी बंदूक समेत भारी मात्रा में नक्सलियों के दैनिक उपयोग की सामग्री बरामद की है।
एसपी शलभ सिन्हा ने एनकाउंटर की पुष्टि करते हुए बताया कि नक्सली गुंडाधुर मलांगिर एरिया कमेटी में एलजीएस कमांडर के रुप में सक्रिय रहा। वह गादीरास थाना क्षेत्र के नागलगुड़ा का निवासी था। समर्पण कर चुके गनमैन ने गुंडाधुर के शव की पहचान की। आयतु डीवीसी मेंबर विनोद का गनमैन था। उन्होंने बताया कि इंटेलिजेंस से इस बात की पुख्ता सूचना थी कि मनकापाल के जंगलों में नक्सली पिछले दो-तीन दिनों से डेरा डाले हुए हैं। नक्सली अक्सर इलाके में लेवी वसूली के लिए पहुंचते रहते हैं। नक्सलियों की मौजूदगी की सूचना के बाद शनिवार सुबह गादीरास थाने से डीआरजी जवानों की एक टुकड़ी पैदल ही मनकापाल इलाके की ओर सर्चिग के लिए रवाना की गई। जवान 15 किमी से ज्यादा पैदल चलकर मनकापाल के जंगलों में पहुंचे। इससे पहले कि जवान मनकापाल के जंगलों में डेरा डाले नक्सलियों की ठीक तरह से घेराबंदी कर पाते, नक्सलियों ने फायरिंग शुरु कर दी। जवानाें ने भी जवाबी कार्रवाई में नक्सलियों पर गोलीबारी की।
दोपहर साढ़े 12 से एक बजे के बीच हुई मुठभेड़ के बाद नक्सली घने जंगलों का फायदा उठाकर फायरिंग करते हुए जंगलों की ओर भाग खड़े हुए। मुठभेड़ खत्म होने के बाद जवानों ने मुठभेड़ स्थल की घेराबंदी कर तलाशी ली। मौके से दो वर्दीधारी नक्सली का शव, तीन हथियार समेत अन्य नक्सली सामग्री बरामद हुई। एसपी ने मुठभेड़ मेंऔर भी नक्सलियों के हताहत होने की बात कही है।
मारे गए नक्सलियों के शव निकालकरगादीरास लाने में जवानों को लगे 4 घंटे
मुठभेड़ खत्म होने के बाद जवानों ने दोपहर एक बजे के आसपास मारे गए नक्सलियों के शव को अपने कब्जे में लिया। मनकापाल के जंगल से गादीरास के बीच का रास्त काफी खराब है। पास के गांव से ट्रैक्टर बुलाकर नक्सलियों के शवों को उसमें लादा गया। जवानों को 15 किमी चलकर गादीरास थाना पहुंचते पहुंचते शाम के पांच बज गए। गादीरास थाने में एसपी शलभ सिन्हा पहले से ही जवानों के लौटने का इंतजार कर रहे थे। डीआरजी के जवानों से ऑपरेशन की जानकारी लेते हुए एसपी ने जवानों की पीठ थपथपाई। बताया गया कि तेज धूप के कारण भी जवानों को ऑपरेशन के दौरान काफी परेशानियों का सामनाकरना पड़ा।
विधायक की हत्या का आरोपी था गुंडाधुर
एनकाउंटर में गुंडाधुर के मारे जाने को पुलिस बड़ी सफलता बता रही है। पुलिस अफसरों ने बताया कि मलांगिर एरिया कमेटी में एलजीएस कमांडर गुंडाधुर की दंतेवाड़ा के पूर्व विधायक स्वर्गीय भीमा मंडावी की हत्या की वारदात में महत्वपूर्ण भूमिका थी। सुकमा व दंतेवाड़ा जिले के सरहदी इलाके में हुए कई नक्सली वारदातों में गुंडाधुर आरोपी है। झीरम हमले में भी गुंडाधुर के शामिल होने की बात सामने आई है। बताया गया कि नक्सली गुंडाधुर का गनमैन पहले ही दंतेवाड़ा पुलिस के सामने सरेंडर कर चुका है। उसी ने गुंडाधुर की पहचान की और उस पर करीब 5 लाख रुपए का इनाम घोषित था।
नक्सली लीडर विनोद भी था मौजूद पर भाग गया
पुलिस इस बात का अंदाज लगा रही है कि एनकाउंटर में नक्सली लीडर विनोद का गनमैन आयतु मारा गया है। ऐसे में पुलिस दावा कर रही है कि आयतु यहां विनोद के ही सुरक्षा के लिए पहुंचा हुआ था और मौके पर विनोद भी मौजूद था। दोनों ओर से हुई गोलीबारी का फायदा उठाते हुए विनोद मौके से भाग निकला।



Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
मारे गए नक्सलियों के शवों को इस तरह जंगल से बाहर लाया।

Powered by WPeMatico

%d bloggers like this: