आरटीई से दाखिले के लिए लॉटरी 15 को, सीटों की तुलना में आवेदन कम

शिक्षा का अधिकार (आरटीई) की आरक्षित सीटों के लिए 15 जुलाई को लॉटरी होगी। आरटीई के दायरे में आने वाले निजी स्कूलों में यह सीटें आरक्षित हैं। इस बार भी सीटों की तुलना में आवेदन कम मिले हैं। राज्य के 6484 निजी स्कूलों में आरटीई से 81467 सीटें आरक्षित हैं। इसके लिए 73985 आवेदन मिले हैं। फार्म भरने की तारीख अभी खत्म नहीं हुई है, इसलिए कुछ संख्या और बढ़ सकती है।
इससे पहले, आरटीई के प्रथम चरण के तहत लॉटरी 15 जुलाई को होगी। शिक्षा विभाग इसके लिए तैयारी कर रहा है। कंप्यूटर के माध्यम यह लॉटरी होगी। अफसरों का कहना है कि आवेदन के समय मोबाइल नंबर लिए गए हैं। जिन्हें सीटें आबंटित होगी उन्हें उनके मोबाइल पर एसएमएस के माध्यम सूचना जाएगी। इसके बताया जाएगा कि उन्हें किस स्कूल में सीटें मिले है, कब तक प्रवेश ले सकते हैं। आरटीई से आवेदन की प्रक्रिया मार्च में शुरू हुई। संभावना थी कि मई तक सीटें आबंटित हो जाएंगी। लेकिन कोरोना वायरस की सीट आबंटन की प्रक्रिया शुरू नहीं हो पायी। इस बीच आवेदन की तारीख बढ़ती रही। एक बार फिर आवेदन की तारीख बढ़ी है, अब 10 जुलाई तक फार्म भरे जा सकते हैं। पिछली बार भी सीटों की तुलना में आवेदन कम मिले थे। आखिरी तक करीब 30 हजार से अधिक सीटें खाली रह गईं थीं।
गौरतलब है कि ऑनलाइन पोर्टल eduportal.cg.nic.in/rte के माध्यम फार्म भरे जा सकते हैं। इसके लिए जन्म प्रमाण पत्र, पहचान प्रमाण पत्र, निवास प्रमाण पत्र और जाति प्रमाण पत्र, गरीबी रेखा से नीचे प्रमाण, सरकारी अस्पताल से प्रमाण पत्र, चाइल्ड वेलफेयर समिति की सूची में नाम जरूरी है।

रायपुर में सीटों की तुलना में मिले आवेदन ज्यादा
रायपुर जिले में स्थित निजी स्कूलों में प्रवेश के लिए सीटों से ज्यादा आवेदन मिले हैं। यहां 832 निजी स्कूलों में आरटीई की 8678 सीटें हैं। इनके लिए 7 जुलाई की शाम तक 10015 आवेदन मिल चुके हैं। बिलासपुर में 10568 सीट है। इसके लिए 7014 आवेदन मिले हैं। राजनांदगांव में 4558 सीटों के लिए 4200 आवेदन मिले हैं। दुर्ग में 6091 आरटीई सीटें हैं। इनके लिए 6984 फार्म प्राप्त हुए हैं। कोरबा में 5429 सीटों के लिए 6131 आवेदन प्राप्त हुए हैं। रायगढ के निजी स्कूलों में आरक्षित 4136 सीटों के लिए 3322 आवेदन आए हैं।



Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
प्रतीकात्मक फोटो।

Powered by WPeMatico

%d bloggers like this: