अमेरिका के टॉप-10 में कोई चाइनीज ऐप नहीं, टॉप-20 में केवल तीन, उनकी भी सिर्फ 6% मोबाइल तक पहुंच

चीन के सोशल मीडिया ऐप्स पर भारत के बाद अब अमेरिका ने भी सख्ती दिखाने का मूड बना लिया है। अमेरिका के विदेश मंत्री माइक पोम्पियो ने टिकटॉक समेत चीन के सोशल मीडिया ऐप्स पर बैन लगाने का संकेत दिया है। हालांकि, अमेरिका में चीन के सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म्स की ज्यादा भागीदारी नहीं है। अमेरिका में टॉप-20 सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म्स में चीन के केवल 3 ऐप शामिल हैं। इन तीनों में से कोई भी ऐप टॉप-10 में शामिल नहीं है।

टिकटॉप-वीचैट के बाद कोई बड़ा नाम नहीं

चीन के सोशल मीडिया ऐप्स पूरी दुनिया में इस्तेमाल किए जा रहे हैं। इनमें टिकटॉक, वीचैट, वीगो समेत समेत कई प्रमुख ऐप शामिल हैं। स्टेटिस्टा के डाटा के मुताबिक, अमेरिका के टॉप-20 सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म में चीन के टिकटॉक और वीचैट के अलावा कोई बड़ा नाम शामिल नहीं है। आंकड़ों के मुताबिक, टिकटॉक के लिए चीन के बाहर अमेरिका दूसरा सबसे बड़ा बाजार है। अमेरिका में टिकटॉक के करीब 4.5 करोड़ यूजर हैं। हालांकि, अमेरिका में टिकटॉक के डाउनलोड की संख्या ज्यादा है। चीन के बाहर भारत करीब 20 करोड़ यूजर्स के साथ सबसे बड़ा बाजार है।

2020 में 500 मिलियन डॉलर का रेवेन्यू मिलने का अनुमान

अमेरिका में टिकटॉक के यूजर्स की संख्या में लगातार बढ़ोतरी हो रही है। सेंसर टावर की ओर से 29 अप्रैल को जारी एक रिपोर्ट के मुताबिक, इस साल जनवरी-मार्च तिमाही में टिकटॉक के पूरी दुनिया में 31.5 करोड़ डाउनलोड हुए, जिसमें से 13 करोड़ डाउनलोड अकेले अमेरिका में हुए। मई में भारत में इस ऐप को 61.1 करोड़ बार डाउनलोड किया गया। 19.6 करोड़ डाउनलोड के साथ चीन दूसरे नंबर पर रहा। 16.5 करोड़ डाउनलोड के साथ अमेरिका तीसरे नंबर पर रहा।टिकटॉक ने 2020 में अमेरिका से 500 मिलियन डॉलर का रेवेन्यू मिलने का अनुमान जताया है।

154 देशों में इस्तेमाल होता है टिकटॉक

टिकटॉक पूरी दुनिया के 154 देशों में 75 से ज्यादा भाषाओं में उपलब्ध है। अमेरिकी मीडिया के आंकड़ों के मुताबिक, अमेरिका के 83 फीसदी टिकटॉक यूजर वीडियो पोस्ट करते हैं। अमेरिका के मात्र 9 फीसदी इंटरनेट यूजर टिकटॉक का इस्तेमाल करते हैं। अमेरिकी यूजर एक दिन में औसतन 8 बार टिकटॉक खोलते हैं। प्रत्येक सेशन 5 मिनट से कम समय का होता है।

भारत ने 59 चीनी ऐप्स पर बैन लगाया

लद्दाख में सीमा विवाद के बाद हाल ही में भारत ने टिकटॉक समेत चीन के 59 सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म पर बैन लगा दिया है। इस बैन को हटाने को लेकर चीनी कंपनियां भारत सरकार से बातचीत कर रही हैं, लेकिन अभी तक सरकार ने अपने फैसले में बदलाव नहीं किया है।

हॉन्गकॉन्ग से भी निकलेगा टिकटॉक

चीन के वीडियो शेयरिंग ऐप टिकटॉक ने कहा है कि वह कुछ ही दिनों में हॉन्गकॉन्ग के कारोबार से बाहर हो जाएगा। टिकटॉक ने यह फैसला चीन की ओर से हॉन्गकॉन्ग के लिए नया कानून लागू करने के बाद लिया गया है।

चीन में एपल स्टोर 4500 गेम हटाए

एपल ने इंटरनेट पॉलिसी के तहत एपल स्टोर से लगभग 4500 गेम्स को हटा दिया है। टेकनोड की रिपोर्ट के मुताबिक, पिछले सप्ताह में केवल दो दिनों में चाइना ऐप स्टोर से 3,000 से अधिक गेम्स को हटाया गया है। चीन सरकार 1 जुलाई को नई इंटरनेट पॉलिसी जारी की थी। नए नियमों में गेम डेवलपर्स को चीन के एपल ऐप स्टोर में अपने ऐप अपलोड करने से पहले चीनी नियामकों से एप्रूवल लेना अनिवार्य है।

टिकटॉक के बारे में ये खबरें भी पढ़ें

बाइटडांस पर बैन का असर न के बराबर /टिक टॉक की पैरेंट कंपनी ने 2019 में 1.33 लाख करोड़ रुपए का कारोबार किया, इसमें भारत की हिस्सेदारी महज 43.7 करोड़ रुपए की

सोशल मीडिया पर खूब रोना-धोना /भारत सरकार ने बैन लगाया 59 चीनी ऐप्स पर, लेकिन बात हो रही सिर्फ एक ऐप टिक टॉक की

भास्कर एक्सप्लेनर /सरकार 3 साल से जानती थी कि चीन के इन 59 ऐप्स से खतरा है, पर गलवान की झड़प के 14 दिन बाद मैसेज देने के लिए इन्हें बैन किया



आज की ताज़ा ख़बरें पढ़ने के लिए दैनिक भास्कर ऍप डाउनलोड करें
Only three Chinese app app in US top 20 Social Media Platforms

Powered by WPeMatico

%d bloggers like this: