पुलिस मुठभेड़ से पहले विकास दुबे ने शराब पार्टी दी थी, 20-25 लोग शामिल हुए थे; 10 पुलिसवालों की चौबेपुर थाने में पोस्टिंग

उत्तर प्रदेश के कानपुर में 2 जुलाई की रातबिकरु गांव मेंमुठभेड़ में 8 पुलिसवाले मारे गए थे। इसके बाद से ही हिस्ट्रीशीटर और 2.5 लाख का इनामी विकास दुबे फरार है। पुलिस उसे ढूंढने की कोशिश कर रही है। बताया जा रहा है कि मुठभेड़ के बाद से ही ग्रामीणों ने चुप्पी साध रखी है। यही वजह है किपांचवें दिन भीपुलिस के हाथ खाली हैं। पुलिस कोजहां सूचना मिल रही है, वहांदबिश दी जारही है। इसी बीच, पता चला है कि पुलिस से मुठभेड़से पहले विकास की ओर सेशराब पार्टी दी गईथी, इसमें 20 से 25 लोगशामिल हुए थे। वहीं, 10 पुलिसकर्मियों की चौबेपुर थाने में पोस्टिंग की गई है। सभी ने ज्वाइन भी कर लिया है।

एनकाउंटर में मारे गए अतुल के घर में हुई थी पार्टी

मुठभेड़ के बाद शुक्रवारसुबह जब पुलिसवालों ने गांव के एक-एक घर जाकर तलाशी लीतो कई संदिग्ध सामने आए। उसी में अतुल दुबे का नाम भी सामने आया, जिसका शुक्रवार तड़के हीएनकांउटरकिया गया था। वह विकास का रिश्तेदार बताया जा रहा है। सूत्रों के मुताबिक, अतुल के घर से अंग्रेजी शराब की खाली बोतलें बरामद हुई थीं।कुछ बोतलें भरी हुई भी थीं।गिलास भी घर में रखे मिले।

पुलिस का मानना है कि मुठभेड़से पहले अतुल के घर में ही शराब पार्टी हुई थी। जिन गुर्गों को विकास ने इकट्ठा किया था, उनके लिए खास इंतजाम किए गए थे। विकास ने अतुल के घर में शराब और खाने का इंतजामकिया था।

बिकरु गांव में
बिकरु गांव में मुठभेड़ के बाद से ही पुलिस की गश्त लगातार जारी है।

अतुल के परिवार को सालों से गांव वालों ने नहीं देखा
बिकरुगांव के ग्रामीण दबी जुबान में बताते हैं कि अतुल के घर में बाहरी लोगों का बहुत आना-जाना होता था। हमेशा उसी के घर में खाना-पीना लगा रहता है। उसके परिवार को तो गांव में देखे सालों हो गए।हालांकि, यह नहीं मालूम कि अतुल का परिवार रहता कहां है।

विकास का खास गुर्गा था अतुल, घर में बना रखा था देसीजिम
अतुल विकास का खास आदमी था। वह विकास के साथ ही रहता था। यह भी जानकारी मिली है कि विकास खुद तो मोबाइल नहीं रखता था, लेकिन कुछ विशेष फोन कॉल के लिए अतुल के मोबाइल नंबर पर ही बात करता था।अतुल ने अपने घर में देसी जिम बना रखा था। इसे देखकर पुलिसकर्मी अंदर गए। वहां देसी डंबल, पुशअप के लिए देसी जुगाड़ कर रखेथे।

कहां है विकास?
सूत्रों के मुताबिक, विकास की लास्ट लोकेशन औरैया में ही मिली थी। उसके बाद से उसकी कोई लोकेशन ट्रेस नहींहो पा रही। पुलिस अंधेरे में ही हाथ-पैर मार रही है। अंदेशा यह भी है कि विकास चंबल के रास्ते मध्य प्रदेशमें तो प्रवेश नहीं कर गया।

बिकरु गांव में सूनीं दिख रही गलियां।
बिकरु गांव में सूनीं दिख रही गलियां।


आज की ताज़ा ख़बरें पढ़ने के लिए दैनिक भास्कर ऍप डाउनलोड करें
गुरुवार रात में मुठभेड़ के बाद कानपुर का बिकरु गांव पुलिस छावनी में बदल गया है। यहां चप्पे-चप्पे पर नजर रखी जा रही है। ग्रामीणों ने भी फिलहाल चुप्पी साधी हुई है।

Powered by WPeMatico

%d bloggers like this: