लोगों के चेहरों पर खौफ, 150 पुलिसवालों के साथ आरएएफ की बटालियन तैनात; गांववालों ने विकास के हाथों किया गया शिलान्यास तोड़ा

कानपुर से 39 किमी दूर चौबेपुर थाना क्षेत्र मेंबिकरू गांव है। यह वही गांव है जहां 2जुलाई की रात गैंगस्टर विकास दुबे और उसके गुर्गों ने उस समय केबिल्हौर केसीओ देवेंद्र मिश्र समेत औरपुलिसवालों की हत्या कर दी थी। इस गांव में 10 दिन पहले तक लोग अपनी जिंदगी में मशगूल रहते थे, आज उनके चेहरे पर मायूसी और खौफ है। पहले गैंगस्टर विकास दुबे के आतंक का खौफ था, अब पुलिस की कार्रवाई का। विकास को छोड़करइस गांव में रहने वाले पांच लोगों का एनकाउंटर किया गया है। अब विश्वास बहाली के लिए गांव में रैपिड एक्शन फोर्स लगाई गई है।

बिकरू गांव में गांववालों से पूछताछ करती पुलिस।

युवक ने गैंगस्टरके हाथों किया गया शिलान्यास तोड़ा
शुक्रवार सुबह विकास का एनकाउंटर होने के बाद गांव में उसके आतंक का खौफ धीरे-धीरे खत्म होने लगा है। यहां के रहने वाले कुछ लोगों काकहना है किहमारी 70-80 साल पुरानी बाप-दादा की जमीनें थीं। विकास नेजबरदस्ती हमसे छीनकर दूसरी पार्टी को दे दीं। उसके मारे जाने से कुछ डर कम हुआ,इसलिए पुलिस को बता पाए, अगर पहले कहते तो मारे जाते। एक युवक ने विकास दुबे के घर के सामने लगे पत्थर को तोड़ दिया। कहा कि इसका गांव से नाम-ओ-निशान मिट जाना चाहिए।

गलियां सूनी, पुलिस मुनादी कर रही
गैंगस्टर विकास का खात्मा हुए एकदिन बीत चुका है,फिर भी उसके गांव की गलियां सूनी हैं। यहां स्थानीय लोगों सेज्यादा पुलिसकर्मी और मीडिया के लोग नजर आ रहे हैं।पुलिस यहां मुनादी कर रही है कि मुठभेड़ के दौरान पुलिस के जो हथियार लूटे गए थे, किसी को उनकीजानकारी हो तो24 घंटे के अंदर बता दे,नहीं तो पुलिस कार्रवाई करेगी।

लोग डर के कारण पुलिस के सामने राेने लगते हैं
बिकरूगांव में पुलिस के 150 जवानोंके साथ एक बटालियन आरआरएफ के जवान भी नजर आ रहे हैं। विकास के ढहाए गए घर के बाहरपुलिसवालों औरआरआरएफ ने घेराबंदी कर रखी है। पुलिस गांववालों से बात करने की कोशिश कर रही है, लेकिनदहशत के कारण कुछलोग पुलिस के सामने रोने लगते हैं। पुलिसवाले उन्हें समझाते हुए घटना के बारे में सही जानकारी देने के लिए कह रहे हैं। अभी भी गांववाले विकास के खिलाफ बोलने से डर रहे हैं।

गैंगस्टर विकास के घर का मलबा अभी भी पड़ा है। यहां पुलिस और आरएएफ ने डेरा डाल रखा है।

अभी भी पुलिस के रडार पर गांव के कई लोग
पुलिस सूत्रों के अनुसार, विकास के मारे जाने के बाद भी पुलिस/एसटीएफ के रडार पर बिकरू औरआसपास के गांव के लोग भी हैं। लगभग 500 लोग ऐसे हैं जिनके मोबाइल सर्विलांस पर लगाकर पुलिस जांच कर रही है। 200 पुलिसवालों पर भीएसटीएफ के रडार पर हैं। पुलिस सूत्रों ने बताया कि घटना के दिन से अब तक गांव के हर मकान की चेकिंग कीगईऔर यहां के हर व्यक्ति से दो-तीन बार पूछताछ की गई। गांव के कईलोग ऐसेहैं जिन पर पुलिस को अभी भी शक है। इसकेचलते कुछ मकानों में पुलिस ने कड़ी नाकाबंदी कर रखी है।



आज की ताज़ा ख़बरें पढ़ने के लिए दैनिक भास्कर ऍप डाउनलोड करें
यह फोटो गैंगस्टर विकास दुबे के बिकरू गांव की है। यहां शनिवार से आरएएफ भी तैनात कर दी गई है। पुलिस अधिकारी गांववालों के बीच भरोसा कायम करने की कोशिश कर रहे हैं।

Powered by WPeMatico

%d bloggers like this: