Our website is made possible by displaying online advertisements to our visitors. Please consider supporting us by whitelisting our website.

एक्स-रे से भी कोरोना का पता लगा सकते हैं, जब नाक और गले से लिए नमूने निगेटिव आए तो वायरस फेफड़ों में मौजूद हो सकता है


केंद्र सरकार ने कोरोना के लक्षण वाले मरीजों का RT-PCR टेस्ट कराना अनिवार्य कर दिया है। हालांकि कई लोग रैपिड एंटीजन टेस्ट को लेकर भी सवाल उठा रहे हैं। कई बार कोरोना टेस्ट में एक बार पॉजिटिव आता है और एक बार नेगेटिव आता है, इसे कैसे समझें? चेस्ट एक्स-रे से कोरोना की जांच कब कराएं? ऐसे ही तमाम सवालों के जवाब दिए जीबी पंत हॉस्पिटल, नई दिल्ली के डॉ. संजय पांडेय ने।

चेस्ट एक्स-रे कब कराएं
कई जगह कोरोना के लिए चेस्ट एक्स-रे भी किया जा रहा है, ऐसे में एक्स-रे कितना कारगर है। इस पर उन्होंने कहा, RT-PCR जांच में नाक और गले से स्वॉब लेकर जांच करते हैं। लेकिन अगर वायरस गले से अंदर फेफड़े में पहुंच गया है और निमोनिया हो गया है तो एक्स-रे से हमें यह पता चल जाता है कि फेफड़ों में वायरस का असर कम है या ज्यादा है। दरअसल वायरस फेफड़े में पहुंचने पर काफी तेजी से बढ़ने लगता है और अपना असर छोड़ता है।

पॉजिटिव और नेगेटिव आने की क्या वजह हैं
डॉ. संजय ने बताया, अगर लक्षण होने के बावजूद रैपिड एंटीजन टेस्ट में निगेटिव आ जाए तो डॉक्टर RT-PCR करते हैं। तब कई बार पॉजिटिव आ जाता है। दरअसल, कई बार लोग सामान्य सर्दी-जुकाम से पीड़ित होते हैं तो भी उनका टेस्ट निगेटिव ही आता है। इसलिए परेशान होने की जरूरत नहीं है। रैपिड एंटीजन टेस्ट को गोल्ड स्टैंडर्ड नहीं मानते हैं, इसलिए RT-PCR टेस्ट करते हैं। लोगों को यही सलाह है क‍ि कोरोना का टेस्ट सरकारी अस्पताल जाकर ही कराएं।

सर्दी में कितना परेशान करेगा कोरोना
अक्टूबर में ठंडी दस्तक देने लगती है, मौसम बदलने के साथ ही लोगों में वायरस के प्रकोप को लेकर काफी चिंता होने लगती है। कोरोना पर सर्दी के मौसम के प्रभाव पर डॉ. संजय ने कहा कि कोरोना का मौसम पर क्या प्रभाव पड़ेगा, अभी कुछ कहना मुश्किल है। पहले लगता था गर्मी में संक्रमण कम होगा, लेकिन ऐसा नहीं हुआ। सर्दी आने वाली लेकिन पैनिक नहीं होना है, क्योंकि अभी सर्दी के लिए 2-3 महीने का वक्त है, उम्मीद है तब तक वैक्सीन आ जाए। वायरस की क्या स्थिति होगी, अभी कुछ भी कहा नहीं जा सकता है।

मास्क लगाकर 70 प्रतिशत हो सकते हैं सुरक्षित

  • डॉ. संजय के मुताबिक, मास्क लगाकर खुद 70 प्रतिशत तक सुरक्षित रख सकते हैं। अगर कहीं भीड़ है तो वहां से जल्दी निकल जाएं।
  • ध्यान रखें, भीड़ अगर बंद जगह में है, तो ज्यादा खतरा है, कहीं खुले में है, तो आशंका कम है। इसके अलावा हाथ धोते रहें।
  • पानी नहीं है तो समय-समय पर सैनेटाइज़र का प्रयोग करें। किसी से भी बात करते वक्त दूरी रखें और मास्क जरूर लगाए रहें।
  • अगर किसी को कोई लक्षण नजर आ रहा है या किसी संक्रमित के संपर्क में आए हैं तो जरूरी नहीं है कि वो घातक हो।
  • सबसे जरूरी है कि अस्पताल जाएं और टेस्ट कराएं। अगर संक्रमण है तो होम आइसोलेशन की भी व्यवस्था है।
  • अगर टेस्ट नहीं कराएंगे तो ये नासमझी है, इससे खुद के साथ परिवार की जान को भी खतरा हो सकता है।

Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today


X-Ray Coronavirus Detection | COVID-19 Chest X-Ray Guideline? All You Need To Know Imaging the coronavirus disease COVID-19

Powered by WPeMatico

%d bloggers like this: