Our website is made possible by displaying online advertisements to our visitors. Please consider supporting us by whitelisting our website.

7 दिन में कोरोना ने बदला ठिकाना, अब शहर के 5 नए क्षेत्र संक्रमण की चपेट में; मृतकों में हाईपर टेंशन के मरीज ज्यादा


छत्तीसगढ़ के रायपुर शहर का लगभग हर इलाका कोरोना संक्रमण की चपेट में है। सितंबर के बीते 7 दिनों में मिले मरीजों की संख्या के आधार पर देखें तो 5 नए क्षेत्र अब संक्रमण की चपेट में हैं। इसमें खमतराई, देवेंद्र नगर, अवंति विहार, प्रोफेसर कॉलोनी और रजिस्ट्रार ऑफिस का इलाका शामिल हैं। वहीं कोरोना का हॉट स्पाट रही समता कॉलोनी के हालात सुधरने लगे हैं।

शहर में कोरोना इफेक्ट

  • टाटीबंध, दलदल सिवनी, मोवा, तेलीबांधा और कोटा में रोजाना बढ़ रहे मरीज
  • शहर में 25 से ज्यादा इलाके ऐसे हैं जहां रोजाना औसतन 10 से ज्यादा केस
  • जबकि 15 से ज्यादा ऐसे इलाके हैं, जहां 5 से अधिक केस प्रतिदिन आ रहे हैं
  • पिछले 14 दिन में 35-50 साल के मरीजों की मौत के आंकड़े बढ़े हैं। 45% मौतें इसी उम्र के मरीजों की हुई हैं
  • स्वास्थ्य विभाग के अनुसार, मरने वाले मरीजों में ज्यादातर हाईपरटेंशन के मरीज रहे हैं

15 से 28 अगस्त के बीच सबसे ज्यादा युवा संक्रमित
पिछले महीने के आंकड़ों को देखें तो 15 से 28 अगस्त के बीच सबसे ज्यादा संक्रमण युवाओं में बढ़ा। रायपुर में 21 से 30 साल के युवा संक्रमित हुए। ऐसे 1195 केस मिले थे। स्वास्थ्य विभाग की ओर से हर 14 दिन में कोरोना संक्रमण के आंकड़ों को वैल्यूएशन किया जाता है। इसी के आधार पर उम्र, स्थान और अन्य स्थितियों में विभाग आंकड़े जारी करता है।

रायपुर में 7 दिनों में 3414 एक्टिव केस बढ़ गए
रायपुर अब तक 16866 संक्रमित मिल चुके हैं। इनमें से 9914 एक्टिव केस हैं। वहीं मौत का आंकड़ा 207 पर पहुंच गया है। अगर 1 से 7 सितंबर तक की बात करें तो इसमें 4866 मरीजों की वृद्धि हुई है। वहीं एक्टिव केस 3414 बढ़ गए हैं। जबकि 57 मरीजों की मौत हो चुकी है। आंकड़ों पर गौर करें तो 1 सितंबर को 12000 मरीज थे। इनमें 6500 एक्टिव थे, जबकि 150 मरीजों की मौत हुई थी।

Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today


ये तस्वीर रायपुर के सिटी कोतवाली क्षेत्र की है। थाने के सामने ली गई इस तस्वीर में ऐसे बहुत से युवा दिख जाएंगे, जिन्होंने मास्क लगाना भी जरूरी नहीं समझा है। ऐसे ही हालात शहर के अन्य इलाकों के भी हैं।

Powered by WPeMatico

%d bloggers like this: