Our website is made possible by displaying online advertisements to our visitors. Please consider supporting us by whitelisting our website.

बारिश में भी मिले रोजगार इसलिए मनरेगा से 26 लाख परिवारों को काम, 3 माह में पूरा करने लक्ष्य


राज्य में कोरोना की स्थिति के बाद लोगों को गांव में रोजगार मिले सके, इसलिए सरकार ने बारिश के दिनों में भी ग्रामीण इंफ्रास्ट्रक्चर से जुड़े काम शुरू किए हैं। 26 लाख परिवारों को रोजगार दिया गया है। केंद्र सरकार ने लोगों को मजदूरी देने के लिए 2271.89 करोड़ के काम स्वीकृत किए हैं। इनमें से 2052.37 करोड़ मिल चुके हैं। 50 दिनों के अतिरिक्त रोजगार के रूप में 93 करोड़ का भुगतान किया गया है। पंचायत भवन से लेकर धान खरीदी चबूतरों, वृक्षारोपण और विभिन्न तरह के शेड अब मनरेगा के तहत बनाए जाएंगे। बारिश के दिनों में भी राज्य के मजदूरों को काम मिलता रहे इसके लिए राज्य सरकार ने पारंपरिक कामों के अलावा अन्य कामों को भी मनरेगा के तहत कराने का निर्णय लिया है। इसी कड़ी में राज्य सरकार ने पंचायत भवन से लेकर धान के चबूतरों को अगले दो से तीन महीने में पूरा करने का लक्ष्य तय किया है। राज्य में धान खरीदी 1 नवंबर से शुरू होती है। राज्य सरकार की कोशिश है कि इससे पहले राज्य के सभी धान खरीदी संग्रहण केंद्रों में पक्के चबूतरे बना लिए जाएं। कोरोना काल में भी लोगों को रोजगार मिले इसलिए इसे मनरेगा के तहत बनाने का निर्णय लिया गया है। इसके अलावा महात्मा गांधी जयंती यानी 2 अक्टूबर से पहले गांवों में पंचायत भवन का काम पूरा किया जाना है। दोनों ही काम युद्धस्तर पर बनाए जा रहे हैं लेकिन अभी तक शत प्रतिशत काम पूरे नहीं हुए हैं।
आजीविका संवर्धन के काम
ग्रामीण अधोसंरचना के तहत धान संग्रहण केंद्रों में चबूतरों, नए पंचायत भवनों, आंगनबाड़ी भवनों, खाद्यान्न भंडारगृहों के साथ ही अन्य पक्के निर्माण कार्य जैसे आजीविका संवर्धन के लिए बकरी शेड, मुर्गी शेड, पशु शेड, सुअर शेड, पक्का फर्श, अजोला टैंक को शामिल किया गया है।

मनरेगा में 9 करोड़ मानव दिवस का रोजगार : सिंहदेव
पंचायत एवं ग्रामीण विकास मंत्री टीएस सिंहदेव ने बताया कि प्रदेश के लिए इस साल 13 करोड़ 50 लाख मानव दिवस का रोजगार स्वीकृत किया गया था। राज्य में अब तक 9 करोड़ 44 लाख मानव दिवस रोजगार मिल चुका है। चालू वित्तीय वर्ष में 5 महीने से भी कम समय में ही सालभर के लक्ष्य का लगभग 70 फीसदी हासिल कर लिया गया है। प्रदेश में मनरेगा जॉब कॉर्ड धारी 79 हजार 280 परिवारों को सौ दिनों का रोजगार उपलब्ध कराया जा चुका है।

Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today


Employment also received in rain, so 26 lakh families work under MNREGA, target to be completed in 3 months

Powered by WPeMatico

%d bloggers like this: