Our website is made possible by displaying online advertisements to our visitors. Please consider supporting us by whitelisting our website.

किसान के बेटे योशिहिडे सुगा बनेंगे अगले प्रधानमंत्री, पीएम पद के लिए रूलिंग पार्टी के इलेक्शन में दो सांसदों को पीछे छोड़कर जगह पक्की की


जापान के पूर्व प्रधानमंत्री शिंजो आबे के इस्तीफे के बाद किसान के बेटे योशिहिडे सुगा देश के नए प्रधानमंत्री बनेंगे। उन्होंने सोमवार को रूलिंग लिबरल डेमोक्रेटिक पार्टी (एलडीपी) के इलेक्शन में जीत हासिल कर ली। वोटिंग में पार्टी के कुल 534 सांसद शामिल हुए। इसमें सुगा को 377 यानी कि करीब 70% वोट हासिल हुए। अब उनके प्रधानमंत्री बनने का रास्ता साफ हो गया है। सुगा 8 साल तक देश के चीफ कैबिनेट सेक्रेटरी के तौर पर सेवाएं दे चुके हैं। उन्हें शिंजो आबे का करीबी माना जाता है।

प्रधानमंत्री पद के तीन उम्मीदवारों लिए डाइट मेम्बर्स और देश के सभी 47 राज्यों के तीन सांसदों ने वोटिंग की। यही वजह रही कि इसमें 788 सांसदों के बदले सिर्फ 534 सदस्य ही शामिल हुए। इमरजेंसी की स्थिति को देखते हुए यह तरीका अपनाया गया। एलडीपी के सेक्रेटरी जनरल और तोशिहिरो निकाइ ने वोटिंग करवाई।

पीएम पद के लिए दो और नेता थे रेस में

प्रधानमंत्री बनने की रेस में एलडीपी के पॉलिसी चीफ फुमियो किशिदा और पूर्व रक्षा मंत्री शिगेरु इशिबा भी शामिल थे। दोनों ही नेताओं ने शिंजो के पद छोड़ने के तुरंत बाद यह पद संभालने की अपनी इच्छा जाहिर कर दी थी। सबसे अंत में योशिहिडे सुगा का नाम सामने आया था। हालांकि वे सबसे आगे निकल गए। किशिदा को 89 और इशिबा को 68 वोट मिले। निचले सदन में एलडीपी बहुमत में है। ऐसे में यह पक्का है कि अब सुगा ही देश के अगले प्रधानमंत्री होंगे।

सुगा के पिता स्ट्रॉबेरी उगाने वाले किसान थे

6 दिसंबर 1948 को सुगा का जन्म अकिता राज्य में हुआ। वे अपने परिवार से राजनीति में आने वाले पहले शख्स हैं। सुगा के पिता वासाबुरो सुगा सेकंड वर्ल्ड वार के समय साउथ मंचूरिया रेलवे कंपनी में भी काम किया करते थे। इस जंग में अपने देश के सरेंडर करने के बाद वे वापस जापान लौट आए। उन्होंने अकिता राज्य के युजावा कस्बे में स्ट्रॉबेरी की खेती शुरू की। बड़े बेटे होने के नाते सुगा बचपन में खेतों में अपने पिता की मदद करने जाया करते थे। उनकी मां टाटसु एक स्कूल टीचर थीं।

सेक्युरिटी गार्ड और फिश मार्केट तक में काम किया
सुगा अपने पिता की तरह खेती नहीं करना चाहते थे। इसलिए, वे स्कूल की पढ़ाई पूरी करने के बाद घर से भागकर टोक्यो आ गए। यहां आने के बाद उन्होंने कई पार्ट टाइम नौकरियां की। उन्होंने सबसे पहले कार्डबोर्ड फैक्ट्री में काम शुरू किया। कुछ पैसे जमा होने पर 1969 में होसेई यूनवर्सिटी में दाखिला ले लिया। पढ़ाई जारी रखने और यूनिवर्सिटी की फीस भरने के लिए उन्हें कई और पार्ट टाइम किया। सुगा ने एक लोकल फिश मार्केट में और सेक्युरिटी गार्ड के तौर पर भी काम किया।

कैसे हुई राजनीति में एंट्री

शुरुआत में सुगा की राजनीति में कोई दिलचस्पी नहीं थी। जापान में जब अमेरिका के साथ सुरक्षा समझौता हुआ और वियतनाम युद्ध के बाद प्रदर्शन शुरू हुए तो वे इसमें शामिल नहीं हुए। ग्रैजुएशन की पढाई पूरी करने के बाद वे एक इलेक्ट्रिकल मेंटेनेंस कंपनी में शामिल हो गए। इसके बाद राजनीति में रुचि बढ़ी और वे एक डाइट मेम्बर के सेक्रेटरी बन गए। सांसद के कामकाज के तरीकों को समझने के बाद 1987 में उन्होंने योकोहोमा सिटी एसेम्बली से चुनाव लड़ा। उन्होंने एक दर्जन से ज्यादा जूते एक बार में पहनकर करीब 30 हजार लोगों के घर जाकर प्रचार किया। चुनाव में उनकी जीत हुई। ऐसे में राजनीति में सुगा की एंट्री हुई।

8 साल से शिंजो आबे के राइट हैंड

996 में जापान के निचले सदन में चुने जाने के बाद से सुगा की जापान के पूर्व प्रधानमंत्री आबे से करीबी बढ़ी। जब आबे 2012 में जापान के प्रधानमंत्री बने तो उन्होंने सुगा को चीफ कैबिनेट सेक्रेटरी अपॉइंट किया था। सुगा तब से आबे के राइट हैंड मैन की तरह काम करते रहे। रोज 2 मीडिया ब्रीफिंग के जरिए वे चर्चाओं में बने रहते थे। सरकार से जुड़े हर तीखे सवालों की जिम्मेदारी सुगा निभ रहे थे।

लोग प्यार से अंकल रेवा कहते हैं

पिछले साल जापान के तत्कालीन राजा अकिहितो ने सिंहासन खत्म किया था और उनके बड़े बेटे नारुहितो ने गद्दी संभाली थी। इस नए युग का नाम रेवा दिया गया, जिसका मतलब सुंदर तालमेल (ब्यूटीफुल हारमनी) होता है। सुगा ने इस नाम का ऐलान किया था, इसलिए प्यार से उन्हें अंकल रेवा कहते हैं।

आप जापान से जुड़ी ये खबरें भी पढ़ सकते हैं…

1. देश में सबसे लंबे समय तक पीएम रहे 65 साल के आबे ने पद छोड़ा, कहा- नहीं चाहता कि खराब सेहत का असर कामकाज पर पड़े

2. जापान के पीएम शिंजो आबे 7 दिन में दूसरी बार अस्पताल पहुंचे; साढ़े सात साल लगातार प्रधानमंत्री रहने का रिकॉर्ड अब उनके ही नाम

Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today


हाई स्कूल की शिक्षा पूरी करने के बाद सुगा टोक्यो आ गए। यहां उन्होंने कार्डबोर्ड फैक्ट्री से लेकर फिश मार्केट तक में पार्ट टाइम काम किया है।- फाइल फोटो

Powered by WPeMatico

%d bloggers like this: