Our website is made possible by displaying online advertisements to our visitors. Please consider supporting us by whitelisting our website.

नगरनार के निजीकरण के विरोध में होने वाली बेमियादी हड़ताल टली


एनएमडीसी के नगरनार इस्पात संयंत्र के निजीकरण के विरोध में मजदूर संगठनों का लगातार विरोध जारी है। इसे लेकर सोमवार को मजदूर संगठनों ने मिलकर एक दिन के लिए काम बंद कर धरना देकर सांकेतिक रूप से प्रदर्शन किया था।
इसके बाद बुधवार 9 सितंबर से अनिश्चितकालीन हड़ताल की घोषणा की गई थी, लेकिन 15 सितंबर को निजीकरण के मामले पर एनएमडीसी और केंद्र सरकार के प्रतिनिधियों की बैठक के चलते इसे स्थगित कर दिया गया है। आंदोलन को लेकर मंगलवार को ऑल इंडिया एनएमडीसी वकर्स फेडरेशन के अध्यक्ष आरडीसीपी राव और महासचिव एसक्यू जामा के साथ ऑनलाइन बैठक हुई, जिसमें आंदोलन की आगामी रणनीति तैयार की गई। तकरीबन 3 घंटे तक चली इस बैठक में 23 सितंबर को फेडरेशन ने सर्वदलीय बैठक बुलाई है, जिसमें सभी संघ-संगठनों के साथ बैठकर आगे की रणनीति पर चर्चा की जाएगी।

15 को होगी एनएमडीसी-केंद्र सरकार की बैठक
मजदूर नेता महेंद्र जॉन ने बताया कि सोमवार को एक दिन की हड़ताल के बाद मंगलवार को फेडरेशन के बड़े पदाधिकारियों ने आंदोलन को लेकर चर्चा की। इसमें उन्होंने प्लांट के निजीकरण का विरोध करते हुए बड़ा आंदोलन करने की बात कही है। वहीं 9 सितंबर से होने वाले आंदोलन को स्थगित करने की बात कहते उन्होंने बताया 15 सितंबर को निजीकरण के मुद्दे पर एनएमडीसी और केंद्र सरकार के बीच चर्चा होनी है, जिसमें लिए जाने वाले निर्णय के आधार पर ही 23 सितंबर को सर्वदलीय बैठक बुलाई जाएगी।

समाज ने केंद्र और राज्य सरकार को लिखा पत्र
इधर सर्व आदिवासी समाज के संभागीय अध्यक्ष प्रकाश ठाकुर ने निजीकरण के मामले का विरोध करते हुए केंद्र और राज्य सरकार को पत्र लिखा है, जिसमें उन्होंने निजीकरण पर तत्काल रोक लगाने की मांग की है। निजीकरण पर रोक नहीं लगाए जाने की स्थिति में आदिवासी समाज द्वारा जन आंदोलन करने की चेतावनी भी दी गई है। ठाकुर ने कहा कि देश के राष्ट्रपति, प्रधानमंत्री, इस्पात उद्योग मंत्री, छत्तीसगढ़ के राज्यपाल, मुख्यमंत्री को ज्ञापन सौंप पर 5 बिंदुओं के आधार पर निजीकरण पर रोक लगाने की मांग की गई है। इसमें कहा गया है कि स्टील प्लांट के निजीकरण से देश के संविधान का हवाला देते ग्रामसभाओं के निर्णय उल्लंघन किया जा रहा है।

नगरनार संयंत्र के निजीकरण का पूरे देश में हो रहा विरोध
नगरनार इस्पात संयंत्र के निजीकरण के विरोध में मजदूर संगठनों ने पुरजोर तरीके से किया है। फेडरेशन के अध्यक्ष और महासचिव के साथ ऑनलाइन बैठक में फेडरेशन की सभी यूनिट्स, जिसमें बैलाडीला, डोनामलाई, रायपुर, हैदराबाद, पन्ना, नगरनार के मजदूर संगठनों के पदाधिकारी मौजूद रहे।

Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today


Indefinite strike to protest privatization of Nagarnar postponed

Powered by WPeMatico

%d bloggers like this: