Our website is made possible by displaying online advertisements to our visitors. Please consider supporting us by whitelisting our website.

दिल्ली ने पंजाब को 158 रन का टारगेट दिया, 7 खिलाड़ी दहाई का आंकड़ा नहीं छू सके; स्टोइनिस ने 21 बॉल पर 53 रन बनाए


आईपीएल के 13वें सीजन का दूसरा मैच किंग्स इलेवन पंजाब और दिल्ली कैपिटल्स के बीच दुबई में खेला जा रहा है। टॉस हारकर पहले बल्लेबाजी करते हुए दिल्ली ने पंजाब को 158 रन का टारगेट दिया। टीम के लिए कप्तान श्रेयस अय्यर ने 39 और ऋषभ पंत ने 31 रन की पारी खेली। आखिर में मार्कस स्टोइनिस ने 21 बॉल पर 53 बनाए। दिल्ली के 7 खिलाड़ी दहाई का आंकड़ा भी नहीं छू सके। वहीं, मोहम्मद शमी ने 15 रन देकर 3 विकेट लिए। मैच का स्कोरकार्ड देखने के लिए यहां क्लिक करें…

दिल्ली की शुरुआत बेहद खराब रही थी। टीम ने 13 रन पर ही 3 विकेट गंवा दिए थे। इसके बाद पंत और अय्यर ने पारी को संभालते हुए चौथे विकेट के लिए 73 रन की पार्टनरशिप की। आखिर में स्टोइनिस की पारी के दम पर दिल्ली ने 8 विकेट पर 157 रन बनाए।

बिश्नोई ने डेब्यू मैच में 1 विकेट लिया
मैच में मोहम्मद शमी ने सबसे ज्यादा 3 विकेट लिए। उन्होंने शिमरॉन हेटमायर (7), पृथ्वी शॉ (5) और श्रेयस अय्यर (39) को पवेलियन भेजा। डेब्यू मैच खेल रहे रवि बिश्नोई ने भी एक विकेट लिया। उन्होंने पंत को पवेलियन भेजा।

दिल्ली की पारी के हाइलाट्स

ओवर रन बने बैट्समैन बॉलर
0-5 21/3 शिमरॉन हेटमायर : 7 रन मोहम्मद शमी : 2 विकेट
6-10 28/0 ऋषभ पंत : 17 रन
11-15 44/2 श्रेयस अय्यर : 22 रन रवि बिश्नोई : 1 विकेट
16-20 64/3 मार्कस स्टोइनिस : 52 रन शेल्डन कॉटरेल : 2 विकेट
शमी ने पहली बार पावर-प्ले में एक से ज्यादा विकेट लिए।

शमी ने आईपीएल में पहली बार पावर-प्ले में एक से ज्यादा विकेट लिए हैं। मैच में उन्होंने पावर-प्ले के अपने 3 ओवर में 2 विकेट लिए। कुल 4 ओवर में 15 रन देकर 3 विकेट लिए। पिछले सीजन तक 42 पारी में उन्होंने पावर-प्ले के 80 ओवरों में सिर्फ 7 विकेट ही झटके थे। शमी ने आईपीएल करियर में अब तक 53 मैच में 45 विकेट लिए।

क्रिस गेल को पहले मैच में मौका नहीं मिला

पंजाब टीम में विदेशी खिलाड़ी ग्लेन मैक्सवेल, निकोलस पूरन, क्रिस जॉर्डन और शेल्डन कॉटरेल शामिल किए गए। कप्तान राहुल ने क्रिस गेल को प्लेइंग इलेवन में शामिल नहीं किया। वहीं, दिल्ली की प्लेइंग इलेवन में विदेशी खिलाड़ी शिमरॉन हेटमायर, मार्कस स्टोइनिस, कगिसो रबाडा और एनरिच नोर्त्जे को मौका मिला।

बिश्नोई, कॉटरेल और नोर्त्जे का आईपीएल में डेब्यू
अंडर-19 में कमाल का प्रदर्शन करने वाले रवि बिश्नोई का यह डेब्यू मैच है। किंग्स इलेवन पंजाब में बिश्नोई के अलावा विंडीज गेंदबाज शेल्डन कॉटरेल भी लीग में अपना पहला मैच खेल रहे हैं। वहीं दिल्ली के लिए क्रिस वोक्स की रिप्लेसमेंट के रूप में एनरिच नोर्त्जे को टीम में शामिल किया गया है। उनका भी यह डेब्यू मैच है।

दोनों टीमें:
दिल्ली कैपिटल्स: पृथ्वी शॉ, शिखर धवन, शिमरॉन हेटमायर, श्रेयस अय्यर (कप्तान), ऋषभ पंत (विकेटकीपर), मार्कस स्टोइनिस, अक्षर पटेल, रविचंद्रन अश्विन, कगिसो रबाडा, एनरिच नोर्त्जे और मोहित शर्मा।

किंग्स इलेवन पंजाब: लोकेश राहुल (कप्तान और विकेटकीपर), मयंक अग्रवाल, करुण नायर, सरफराज खान, ग्लेन मैक्सवेल, निकोलस पूरन, कृष्णप्पा गौतम, क्रिस जॉर्डन, शेल्डन कॉटरेल, रवि बिश्नोई और मोहम्मद शमी।

पंजाब यूएई में अब तक नहीं हारी

यूएई में पंजाब की टीम अब तक एक भी मैच नहीं हारी। टीम ने यहां 2014 में सभी 5 मैच में जीत दर्ज की थी। साथ ही पंजाब ने पिछले तीन सीजन में अपना पहला मैच जीता है। ऐसे में टीम अपने इस रिकॉर्ड को बरकरार रखना चाहेगी। हालांकि, इस बार बेहतरीन स्पिनर्स से सजी दिल्ली कैपिटल्स भारी पड़ सकती है। टीम में दिग्गज रविचंद्रन अश्विन और अक्षर पटेल जैसे बेहतरीन स्पिनर्स हैं। इन्हें स्लो पिच पर काफी मदद मिलेगी। अश्विन पिछली बार पंजाब टीम के कप्तान थे।

यूएई में दिल्ली का खराब रिकॉर्ड

लोकसभा चुनाव के कारण आईपीएल 2009 में साउथ अफ्रीका और 2014 सीजन के शुरुआती 20 मैच यूएई में हुए थे। तब यूएई में दिल्ली का रिकॉर्ड बेहद खराब रहा था। टीम ने तब यहां 5 में से 2 मैच जीते और 3 हारे थे।

राहुल के पास 2 हजार रन बनाने का मौका
लोकेश राहुल इस मैच में 23 रन बनाते ही आईपीएल में अपने 2 हजार रन पूरे कर लेंगे। वे ऐसा करने वाले 20वें भारतीय होंगे। इस मामले में टॉप पर आरसीबी के कप्तान विराट कोहली काबिज हैं, जिन्होंने अब तक 5412 रन बनाए हैं। इसके बाद सीएसके के सुरेश रैना का नंबर आता है, जिन्होंने अब तक 5368 रन बनाएं हैं।

दिल्ली अकेली टीम, जो अब तक फाइनल नहीं खेली

पंजाब और दिल्ली दोनों अब तक लीग का खिताब नहीं जीत सकी हैं। बॉलीवुड एक्ट्रेस प्रीति जिंटा की मालिकाना वाली पंजाब टीम अब तक एक ही बार 2014 में फाइनल खेल सकी और एक ही बार 2008 में सेमीफाइनल से बाहर हुई थी। वहीं, दिल्ली अकेली ऐसी टीम है, जो अब तक फाइनल नहीं खेल सकी। हालांकि, दिल्ली टूर्नामेंट के शुरुआती दो सीजन (2008, 2009) में सेमीफाइनल तक पहुंची थी।

आज की ताज़ा ख़बरें पढ़ने के लिए दैनिक भास्कर ऍप डाउनलोड करें


दिल्ली के मार्कस स्टोइनिस ने छठे नंबर पर बल्लेबाजी करते हुए फिफ्टी लगाई।

Powered by WPeMatico

%d bloggers like this: