Our website is made possible by displaying online advertisements to our visitors. Please consider supporting us by whitelisting our website.

एक्ट्रेस बोलीं- जिस बिल्डिंग में रहती हूं, वो शरद पवार से ताल्लुक रखती है; एनसीपी चीफ ने कहा- मेरी भी इच्छा है कि कोई मेरे नाम इमारत लिख दे


कंगना रनोट ने अपना दफ्तर मणिकर्णिका फिल्म्स तोड़े जाने के एक दिन बाद नया दावा किया। कंगना ने एक ट्वीट का जवाब देते हुए कहा कि बीएमसी ने 2018 में एक नोटिस उनके डीबी ब्रीज स्थित फ्लैट के लिए भेजा था, न कि पाली हिल स्थित बंगले के लिए, जिसका “अवैध” हिस्सा बीएमसी ने बुधवार को ढहा दिया।

कंगना ने कहा कि यह मसला पूरी बिल्डिंग का था और इसे बिल्डर को सुलझाना चाहिए था। यह इमारत शरद पवार से ताल्लुक रखती है। हमने यह फ्लैट उनके पार्टनर से खरीदा था तो इसके लिए वो जवाबदेह हैं, मैं नहीं।

राकांपा अध्यक्ष ने कहा- दावे में कोई सच्चाई नहीं

जब राकांपा अध्यक्ष शरद पवार से इस बारे में सवाल किया गया तो उन्होंने तंज भरे अंदाज में कहा कि यह मेरी भी ख्वाहिश है कि कोई मेरे नाम पर इमारत लिख दे। अब सवाल ये है कि हम किससे जिम्मेदारी भरी बातें करने की उम्मीद कर रहे हैं। हालांकि, उनके दावे में कोई भी सच्चाई नहीं है।

अपना दफ्तर देखने पहुंची थीं कंगना

कंगना रनोट गुरुवार को पाली हिल्स स्थित अपना टूटा हुआ दफ्तर देखने पहुंचीं। उनके साथ उनकी बहन रंगोली भी थीं। कंगना यहां पर करीब 10 मिनट तक रहीं। दफ्तर तोड़े जाने के मामले में गुरुवार को बॉम्बे हाईकोर्ट में बीएमसी ने अपना जवाब दाखिल किया है। इसके बाद कंगना के वकील ने कोर्ट से कुछ वक्त मांगा। मामले की सुनवाई अब 22 सितंबर को होगी।

बुधवार को कंगना हिमाचल से मुंबई पहुंची थीं। इसके पहले ही बीएमसी ने पाली हिल्स स्थित कंगना के दफ्तर मणिकर्णिका फिल्म्स में अवैध निर्माण हटाने की कार्रवाई की थी। इसके खिलाफ कंगना हाईकोर्ट गई थीं और कोर्ट ने कार्रवाई पर स्टे लगा दिया था।

मणिकर्णिका के दफ्तर में गुरुवार को कंगना रनोट।

उद्धव पर टिप्पणी के मामले में कंगना के खिलाफ शिकायत

विक्रोली पुलिस स्टेशन में कंगना के खिलाफ शिकायत दर्ज करवाई गई। शिकायतकर्ता वकील नितिन माने ने कंगना पर सीएम उद्धव ठाकरे के लिए आपत्तिजनक भाषा का इस्तेमाल करने और उन्हें बदनाम करने के लिए ‘बॉलीवुड माफिया’ के साथ संबंध जोड़ने का आरोप लगाया। एक्ट्रेस ने बुधवार को एक वीडियो मैसेज में सीएम के नाम से पहले आपत्तिजनक शब्द कहा था।

कार्रवाई के दूसरे दिन भी कंगना के तीखे तेवर

गुरुवार सुबह कंगना ने तीन ट्वीट कर शिवसेना, सीएम उद्धव ठाकरे और बीएमसी पर निशाना साधा।

पहला ट्वीट

दूसरा ट्वीट

तीसरा ट्वीट

इस बीच, कंगना की बहन रंगोली पाली हिल्स स्थित ऑफिस में हुई तोड़फोड़ का जायजा लेने पहुंची। बताया जा रहा है कि राज्यपाल भगत सिंह कोश्यारी ने इस मामले में मुख्यमंत्री के सलाहकार से जवाब तलब किया है। वे इस कार्रवाई की रिपोर्ट केंद्र को भी भेज सकते हैं।

इससे पहले गुरुवार को कंगना के वकील ने कोर्ट में दलील देते हुए बीएमसी की कार्रवाई को गैरकानूनी, मनमानी, दुर्भावनापूर्ण बताया था। हाईकोर्ट ने बीएमसी को निर्देश दिया कि वह 9 सितंबर को तोड़फाेड़ के आदेश को चुनौती देने वाली याचिका पर जवाब दाखिल करें। बुधवार को जब तक कोर्ट का स्टे ऑर्डर आया, तब तक कंगना के ऑफिस का एक बड़ा हिस्सा गिराया जा चुका था।

सामने आया बीएमसी का दोहरा रवैया
कंगना के ऑफिस को तोड़ने से पहले सोमवार को फैशन डिजाइनर मनीष मल्होत्रा के बंगले पर अवैध निर्माण को लेकर ‘कारण बताओ नोटिस’ जारी किया गया था। बीएमसी ने उन्हें 7 दिन का समय दिया था और कंगना को सिर्फ 24 घंटे का वक्त दिया गया। नोटिस में मल्होत्रा के बंगले में अवैध निर्माण की बात भी कही गई है।

राकांपा प्रमुख पवार ने कहा- मुंबई में कई अवैध निर्माण हैं
बीएमसी की कार्रवाई शिवसेना सरकार पर उल्टे दांव की तरह पड़ती नजर आ रही है। महाराष्ट्र में शिवसेना की गठबंधन सरकार में सहयोगी दल कांग्रेस और राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (राकांपा) ने इस विवाद से पल्ला झाड़ लिया है। राकांपा अध्यक्ष शरद पवार ने कहा कि बीएमसी की कार्रवाई ने अनावश्यक रूप से कंगना को बोलने का मौका दे दिया है। मुंबई में कई अन्य अवैध निर्माण हैं। यह देखने की जरूरत है कि अधिकारियों ने यह निर्णय क्यों लिया।

कंगना के बहाने राष्ट्रपति शासन की मांग

मुंबई के कंगना के ऑफिस में हुई तोड़फोड़ के मामले को आधार बनाकार अब राज्य में राष्ट्रपति शासन की मांग उठाई जा रही है। अभिनेता सुशांत सिंह राजपूत की बहन श्वेता सिंह कीर्ति और झारखंड के जमशेदपुर पूर्वी से विधायक सरयू राय ने राष्ट्रपति शासन लगाने की मांग की है। अभिनेता की बहन ने ट्वीट कर कहा,”हे भगवान! यह कैसा गुंडा राज है। इस तरह का अन्याय बिल्कुल भी नहीं सहना चाहिए। क्या राष्ट्रपति शासन इस अन्याय का जवाब हो सकता है? चलो दोबारा राम राज स्थापित करते हैं।”

सरयू राय ने बीएमसी की कार्रवाई को जंगलराज बताया है। साथ ही महाराष्ट्र में राष्ट्रपति शासन लगाने की मांग की है।

आज की ताज़ा ख़बरें पढ़ने के लिए दैनिक भास्कर ऍप डाउनलोड करें


बीएमसी ने बुधवार को अभिनेत्री कंगना रनोट के पाली हिल राेड स्थित ऑफिस के एक हिस्से को गिरा दिया था। गुरुवार को कंगना अपना दफ्तर देखने पहुंचीं।

Powered by WPeMatico

%d bloggers like this: