Our website is made possible by displaying online advertisements to our visitors. Please consider supporting us by whitelisting our website.

फडणवीस बोले- दाऊद का घर नहीं तोड़ा जाता, कंगना का तोड़ दिया; शरद पवार ने कहा- कार्रवाई बीएमसी ने की, हमारी सरकार से लेना-देना नहीं


कंगना रनोट का दफ्तर तोड़े जाने पर महाराष्ट्र के पूर्व मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस ने शुक्रवार को राज्य सरकार पर निशाना साधा। फडणवीस ने कहा कहा कि दाऊद इब्राहिम का घर नहीं तोड़ा जाता, जबकि कंगना का घर तोड़ दिया जा रहा है। राकांपा के चीफ शरद पवार ने कहा कि महाराष्ट्र सरकार का कंगना के खिलाफ की गई कार्रवाई से कुछ लेना-देना नहीं है। यह कार्रवाई बीएमसी ने की है। उधर, केंद्रीय मंत्री और आरपीआई के चीफ रामदास आठवले ने महाराष्ट्र के गवर्नर भगत सिंह कोश्यारी से मुलाकात की है। आठवले ने राज्यपाल से मुआवजे की मांग की है।

कंगना से एक और विवाद जुड़ा

9 तारीख को कंगना मुंबई आई थीं। इसी दिन बीएमसी ने कंगना के ऑफिस के कथित अवैध निर्माण को गिरा दिया था। उनका यह ऑफिस बांद्रा के पाली हिल इलाके में है। इसे 48 करोड़ रुपए खर्च कर बनवाया था। इस कार्रवाई पर अब हाईकोर्ट में सुनवाई हो रही है।

इस बीच कंगना से एक और विवाद जुड़ गया है। सीधे तौर पर तो नहीं पर यह विवाद मीडिया की कवरेज को लेकर है। कंगना 9 तारीख को इंडिगो की फ्लाइट से चंडीगढ़ से मुंबई आई थीं। इस दौरान फ्लाइट में ही मीडिया ने फोटोग्राफी और वीडियोग्राफी की। इस पर डीजीसीए ने इंडिगो से जवाब मांगा है।

कंगना ने शुक्रवार को 3 ट्वीट किए

एक्ट्रेस कंगना रनोट ने अपने दफ्तर पर हुई कार्रवाई पर शुक्रवार को तीन ट्वीट किए। पहले ट्वीट में उन्होंने लिखा- सोनिया गांधीजी, एक महिला होने के नाते आप महाराष्ट्र में अपनी सरकार द्वारा मेरे साथ किए गए बर्ताव से दुखी नहीं हैं? क्या आप डॉ. अंबेडकर के बनाए संविधान के सिद्धांतों का पालन करने की अपील अपनी सरकार से नहीं कर सकती हैं?

दूसरे ट्वीट में उन्होंने कहा- आप (सोनिया गांधी) पश्चिम में पली-बढ़ी हैं। भारत में रहती हैं। आप महिलाओं के संघर्ष को जानती हैं। जब आपकी खुद की सरकार महिलाओं का उत्पीड़न कर रही है और कानून और व्यवस्था का मजाक बना रही है। ऐसे में इतिहास आपकी चुप्पी और उदासीनता को तय करेगा। मुझे उम्मीद है कि आप इस मामले में दखल देंगी।

तीसरे ट्वीट में एक टीवी इंटरव्यू को ट्वीट कर कंगना रनोट ने शुक्रवार को कहा, ‘महान बाला साहेब ठाकरे मेरे सबसे पसंदीदा आइकन में से एक हैं, उनका सबसे बड़ा डर था कि किसी दिन शिवसेना गुटबंधन करेगी और कांग्रेस बनेगी। मैं जानना चाहती हूं कि आज उनकी पार्टी की स्थिति को देखते हुए उनकी सजग भावना क्या है?’

कंगना का 4 दिन में तीसरा बड़ा बयान

एक्ट्रेस का चार दिन में शिवसेना पर तीसरा बड़ा बयान है। इससे पहले उन्होंने कहा था कि शिवसेना सोनिया सेना बन गई है। फिर 9 सितंबर को कहा था कि उद्धव ठाकरे! आज मेरा घर टूटा है, कल तेरा घमंड टूटेगा, यह वक्त का पहिया है, याद रखना।

महाराष्ट्र के मंत्री ने कहा, कंगना ने मुंबई का अपमान किया
महाराष्ट्र के मंत्री और राकांपा नेता जयंत पाटील ने कंगना के बयानों को पब्लिसिटी स्टंट करार दिया है। उन्होंने कहा कि कंगना ने महाराष्ट्र और मुंबई के लिए अपशब्दों का इस्तेमाल करके मुंबई का अपमान किया है। शुक्रवार को शिवसेना के मुखपत्र सामना में एक लेख प्रकाशित हुआ है, जिसमें जयंत पाटिल ने एक्ट्रेस का नाम लिए बिना निशाना साधा।

कंगना ने कहा- मेरे पास ऑफिस को फिर से बनाने के पैसे नहीं, मैं इसी खंडहर से काम करूंगी
कंगना की मानें तो उनके पास अपने ऑफिस को दोबारा बनवाने के पैसे नहीं है। उन्होंने ट्वीट किया, ‘मैंने 15 जनवरी को अपने ऑफिस की ओपनिंग की थी। इसके फौरन बाद कोरोना महामारी आ गई। ज्यादातर लोगों की तरह तब से मैंने भी कोई काम नहीं किया है। मेरे पास इसे फिर से बनवाने के पैसे नहीं हैं। मैं इसी खंडहर से काम करूंगी।’ (कंगना ने और क्या कहा- यहां पढ़ें पूरी खबर)

कंगना के ड्रग्स मामले की जांच की प्रक्रिया शुरू
महाराष्ट्र सरकार ने कंगना के ड्रग्स मामले की जांच के आदेश दे दिए हैं। गृहविभाग से मिली जानकारी के अनुसार, मुंबई पुलिस को एक लेटर भेजा गया है। इसमें मुंबई पुलिस को अब तय करना है कि इस मामले की जांच क्राइम ब्रांच करेगी या नारकोटिक्स ब्यूरो को दी जाएगी। इससे पहले विधानसभा के मानसून सत्र में शिवसेना विधायक प्रताप सरनाईक ने जांच की मांग की थी। इसके जवाब में गृहमंत्री अनिल देशमुख ने जांच कराने का भरोसा दिलाया था।

आज की ताज़ा ख़बरें पढ़ने के लिए दैनिक भास्कर ऍप डाउनलोड करें


कंगना रनोट गुरुवार को पाली हिल स्थित अपने ऑफिस पहुंचीं। वे यहां करीब 10 मिनट तक रहीं। बुधवार को बीएमसी ने उनके ऑफिस में बने अवैध निर्माण को गिरा दिया था।

Powered by WPeMatico

%d bloggers like this: