Our website is made possible by displaying online advertisements to our visitors. Please consider supporting us by whitelisting our website.

पहली बार लोकसभा के सदस्यों ने राज्यसभा में बैठकर कार्यवाही में हिस्सा लिया, प्रश्नकाल नहीं हुआ; 4000 लोगों के कोविड टेस्ट हुए


कोरोना महामारी के बीच 17वीं लोकसभा का चौथा सत्र सोमवार से शुरू हो गया। पहले दिन इस बार सब कुछ बदला-बदला नजर आया। संसद परिसर में एंट्री से लेकर सदन की कार्यवाही तक में कोरोना का असर देखा गया। प्रधानमंत्री, केंद्रीय मंत्री, सांसद से लेकर संसद के कर्मचारी और सिक्योरिटी स्टाफ फेस मास्क पहने और सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करते दिखे।

संसद के एंट्री पॉइंट पर टेम्परेचर चेक किया गया। सभी की कोविड टेस्ट की रिपोर्ट देखी गई। निगेटिव होने के बाद ही अंदर जाने की परमिशन दी गई। सत्र की शुरुआत के पहले करीब 4000 लोगों का कोरोना टेस्ट हुआ। इनमें सांसद, उनके स्टाफ, संसद के कर्मचारी और सिक्योरिटी पर्सनल भी शामिल हैं।

लोकसभा में क्या बदला नजर आया?

  • सीटिंग अरेजेंमेंट: लोकसभा में सिर्फ 200 सदस्यों के बैठने की व्यवस्था की गई थी। 30 सदस्य गैलरी में बैठे थे। लोकसभा में ही एक बड़ा टीवी स्क्रीन लगाया गया है, जिसके माध्यम से राज्यसभा में बैठे लोकसभा के सदस्य भी नजर आ रहे थे। बाकी सदस्य राज्यसभा में बैठे। ऐसे ही राज्यसभा में बैठे सदस्य स्क्रीन के जरिए लोकसभा की कार्यवाही देख रहे थे।
  • प्रश्नकाल नहीं हुआ: पहली बार लोकसभा की कार्यवाही में प्रश्नकाल नहीं हुआ। विपक्ष ने इस हंगामा किया और इसे लोकतंत्र के खिलाफ बताया।
  • बैठकर बोलने की अनुमति दी गई: लोकसभा स्पीकर ओम बिड़ला ने सांसदों को अपनी सीट पर बैठकर बोलने की अनुमति दी। चार घंटे की कार्यवाही में सभी सांसदों ने बैठकर सवाल-जवाब किए।
  • दो गज की दूरी बनाकर बैठे: सभी सांसद मास्क और ग्लव्स पहने नजर आए। दो गज की दूरी बनाकर सांसद बैठे थे।
यह फोटो अपना दल (सोनेलाल) की सांसद अनुप्रिया पटेल की है। सदन में सभी सांसदों के सामने एक प्लास्टिक शील्ड लगाई गई है। उन्हें बैठकर ही बोलने के लिए कहा गया।

कांग्रेस ने कहा- आप लोकतंत्र का गला घोंटने की कोशिश कर रहे हैं

  • कांग्रेस के सांसद अधीर रंजन चौधरी ने कहा कि प्रश्नकाल सदन की कार्यवाही का अहम हिस्सा है। यह गोल्डन आवर्स है, लेकिन आप कह रहे हैं कि विशेष परिस्थितियों की वजह से इसे नहीं करा सकते हैं। दरअसल, आप लोकतंत्र का गला घोंटने की कोशिश कर रहे हैं। लोकसभा की कार्यवाही कल 3 बजे तक स्थगित कर दी गई है।
  • एआईएमआईएम के प्रमुख असदुद्दीन ओवैसी ने कहा कि सरकार ने हमारे सवाल पूछने का अधिकार छीन लिया है। विपक्ष के अन्य सदस्यों ने भी कहा कि प्रश्नकाल होना जरूरी है। तृणमूल कांग्रेस के सांसद कल्याण बनर्जी ने कहा कि प्रश्नकाल संसदीय प्रणाली के मूलभूत ढांचे से जुड़ा है। इसका प्रमुख अंग है।
  • रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने प्रश्नकाल के मुद्दे पर सरकार का बचाव किया। उन्होंने कहा कि असाधारण परिस्थितियों में संसद की कार्यवाही हमको करनी पड़ रही है। चार घंटे के लिए सदन चलेगा। मैंने अपील की थी कि इसमें प्रश्नकाल न हो। आधे घंटे का एक जीरो आवर हो।

मोदी बोले- सीमा पर जवान मुस्तैद, पूरी संसद और देश उनके साथ है
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा, ‘आज जब हमारी सेना के वीर जवान सीमा पर डटे हुए हैं। हिम्मत के साथ, जज्बे के साथ, बुलंद हौसलों के साथ, दुर्गम पहाड़ियों में डटे हुए हैं। कुछ समय के बाद बर्फबारी भी शुरू होगी। ऐसे वक्त में संसद से एक भाव, एक सुर से ये आवाज आनी चाहिए कि देश और पूरा सदन उनके साथ खड़ा है। कोरोना के दौर में जब तक दवाई नहीं, तब तक कोई ढिलाई नहीं होनी चाहिए।’

उन्होंने कहा कि हम चाहते हैं कि दुनिया के किसी कोने में वैक्सीन बने और हम सभी को मिले।’ उन्होंने कहा, ‘मुश्किल दौर में संसद का सत्र शुरू हो रहा है। एक तरफ कोरोना है और दूसरी तरफ कर्तव्य। सांसदों ने कर्तव्य का पथ चुना है। मैं उन्हें धन्यवाद और बधाई देता हूं।’

सदन में प्रधानमंत्री मोदी समेत अन्य सांसद भी मास्क पहने रहे।

मानसून सत्र की खास बातें
1. इस बार सत्र के दौरान 18 दिन लगातार कार्यवाही चलेगी। कोई छुट्टी नहीं होगी। शनिवार और रविवार को भी काम होगा। आमतौर पर दोनों सदनों में एक साथ काम होता है, लेकिन इस बार दो शिफ्ट में होगा।
2. लोकसभा आज सुबह 9 बजे से दोपहर 1 बजे तक चलेगी। राज्यसभा की कार्यवाही दोपहर 3 बजे से शाम 7 बजे चलेगी। इसके बाद 15 सितंबर से एक अक्टूबर तक लोकसभा दोपहर 3 बजे से शाम 7 बजे तक चलेगी। वहीं, राज्यसभा सुबह 9 बजे से दोपहर 1 बजे तक चलेगी।
3. मानसून सत्र में 47 विधेयक पेश किए जाएंगे। इनमें 11 विधेयक ऐसे होंगे जो अध्यादेश की जगह लेंगे।

सत्र से पहले 5 सांसदों को कोरोना, 9 दूसरे सांसद भी नहीं पहुंचे
सत्र से पहले सभी सांसदों की कोरोना जांच की गई, जिनमें 5 सांसदों की रिपोर्ट पॉजिटिव आई है। तृणमूल कांग्रेस के 7 सांसद भी सत्र में हिस्सा नहीं ले रहे। इनमें राज्यसभा के मुख्य सचेतक सुखेंदु शेखर राय भी शामिल हैं। भाजपा के 2 सांसद भी नहीं आएंगे।

संक्रमण फैलने से रोकने के लिए क्या इंतजाम?
संक्रमण फैलने से रोकने के लिए 6 बार रोज एसी बदले जाएंगे। सांसदों को कोरोना से बचाव के लिए डीआरडीओ की किट मिलेगी। हर किट में 40 डिस्पोजल मास्क, एन95 मास्क, सैनिटाइजर की 20 बोतलें, 40 ग्लब्ज और दरवाजा बंद करने के लिए टच फ्री हुक्स होंगे।

आज की ताज़ा ख़बरें पढ़ने के लिए दैनिक भास्कर ऍप डाउनलोड करें


Narendra Modi: Parliament Monsoon Session Live | Latest News and Updates on Parliament Session: Congress Adhir Ranjan Chowdhury On Coronavius, Indian Economy and India China

Powered by WPeMatico

%d bloggers like this: