Our website is made possible by displaying online advertisements to our visitors. Please consider supporting us by whitelisting our website.

सरकारी अस्पताल की निगरानी के लिए अफसरों की जिम्मेदारी


छत्तीसगढ़ में काेरोना संक्रमण तेजी से बढ़ रहा है। सीएम भूपेश बघेल ने कहा कि राज्य में कोरोना पीड़ितों को मदद पहुंचाने और संक्रमण रोकने की दिशा में उल्लेखनीय काम हुआ है। कोरोना की आधी लड़ाई हम सफलतापूर्वक जीत चुके हैं। अभी संक्रमण का पीक पीरियड है। ऐसी स्थिति में बिना थके, बिना रुके इस लड़ाई को जीतना है। उन्होंने उम्मीद जताई कि सभी विभागों के संयुक्त प्रयास से कोरोना संक्रमण पर विजय पाने में सफलता मिलेगी।

सीएम भूपेश ने रविवार को कलेक्टरों को कोरोना मरीजों के भोजन का बेहतर प्रबंध करने के साथ ही वार्डों व टॉयलेट आदि की नियमित सफाई की मॉनिटरिंग के लिए सभी सरकारी अस्पतालों के लिए एक-एक अधिकारी तैनात करने कहा है। उन्होंने कहा कि मरीजों के भोजन, पेयजल व अन्य व्यवस्था में कोई भी शिकायत नहीं मिलनी चाहिए। कोरोना संक्रमित ऐसे मरीज जिन्हें सांस लेने में तकलीफ हो, उसकी जांच-पड़ताल के लिए स्थानीय स्तर पर सीटी स्कैन की व्यवस्था की जाए ताकि संक्रमण की स्थिति का पता लगाकर उसका इलाज किया जा सके।

होम आइसोलेशन में रह रहे मरीज के गंभीर होने पर उसे अस्पताल में भर्ती कराने की व्यवस्था करने की जिम्मेदारी स्वास्थ्य विभाग की होगी। कोरोना बुलेटिन में मृतकों की संख्या के साथ मृत्यु का स्पष्ट कारण देने कहा गया है। हार्ट, किडनी, लिवर, हाई ब्लड प्रेशर, शुगर के गंभीर रोगी यदि कोरोना पीड़ित होते हैं तो उनकी मृत्यु कोरोना से हुई या पूर्व की बीमारी से, यह भी पूरी तरह स्पष्ट होना चाहिए। कृषि मंत्री रविंद्र चौबे ने कहा कि एसिम्प्टमिक या माइल्ड सिम्प्टमिक मरीजों का इलाज होम आइसोलेशन के जरिए किया जाना चाहिए।

उन्होंने ग्राम सभा के माध्यम से लोगों को जागरूक करने के भी सुझाव दिए। इस दौरान गृहमंत्री ताम्रध्वज साहू, वन मंत्री मोहम्मद अकबर, नगरीय प्रशासन मंत्री शिव डहरिया, उद्योग मंत्री कवासी लखमा, उच्च शिक्षा उमेश पटेल, राजस्व मंत्री जयसिंह अग्रवाल, स्कूल शिक्षा मंत्री डॉ. प्रेमसाय टेकाम, खाद्य मंत्री अमरजीत भगत, महिला एवं बाल विकास मंत्री अनिला भेंडिया और पीएचई मंत्री गुरू रूद्र कुमार ने भी कई उपयोगी सुझाव दिए। बैठक में मुख्य सचिव आरपी मंडल, एसीएस होम सुब्रत साहू, स्वास्थ्य संचालक नीरज बंसोड़, एनएचएम संचालक डॉ. प्रियंका शुक्ला सहित अन्य अधिकारी उपस्थित थे।

25 सौ लोग होम आइसोलेशन में : एसीएस हेल्थ रेणु पिल्लै ने बताया कि कोरोना मरीजों की संख्या लगभग 41 हजार है, जिसमें से 20 हजार स्वस्थ हो चुके हैं। वर्तमान में 20968 एक्टिव मरीज हैं। देश में कोरोना मरीजों के मृत्यु का प्रतिशत 1.73 है, जबकि छत्तीसगढ़ में यह मात्र 0.84 है। वर्तमान में राज्य में 22 हजार 606 बेड रिक्त हैं। लगभग 25 सौ लोग होम आइसोलेशन में हैं।

लॉकडाउन खुलने से प्रदेश में बढ़ा संक्रमण : सिंहदेव स्वास्थ्य मंत्री टीएस सिंहदेव ने कहा कि राज्य में लॉकडाउन खुलने के बाद कोरोना संक्रमण की स्थिति बढ़ी है। आवागमन बढ़ने और अन्य आयोजनों में लोगों के शामिल होने से संक्रमण फैला है। कंटेनमेंट जोन अथवा ऐसे स्थान जहां कोरोना के मरीज पाए गए हैं, वहां बड़े पैमाने पर टेस्टिंग होने से संक्रमितों के आंकड़े बढ़े हैं, जबकि स्थिति ऐसी नहीं है। उन्होंने उम्मीद जताई कि आने वाले समय में कोरोना संक्रमण की स्थिति थमेगी और उसके बाद उसमें कमी भी आएगी। स्वास्थ्य मंत्री ने लोगों की इम्युनिटी बढ़ाने के लिए आवश्यक उपाय किए जाने की सलाह दी।

Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today


Officers responsibility for monitoring government hospital

Powered by WPeMatico

%d bloggers like this: