Our website is made possible by displaying online advertisements to our visitors. Please consider supporting us by whitelisting our website.

घायल श्रमिक ने बताया कैसे हुआ एक्सीडेंट, जिनसे कुछ देर पहले हंसी-मजाक किया, उन साथियों की लाशें बस से निकलते देखीं


रायपुर के हसौद इलाके में ट्रक की टक्कर से बस सवार 8 मजदूरों की मौत हो गई। यह सभी लोग ओडिशा से गुजरात जा रहे थे। हादसे में घायल यात्री टुकुना जेना ने घटनाक्रम के बारे में बताया। टुकुना यहां अंबेडकर अस्पताल में इलाज करवा रहे हैं। उन्होंने बताया कि हम सभी लोग सो रहे थे, बस काफी तेज चल रही थी। हादसे से कुछ देर पहले ही आंख खुली थी तब सब कुछ सामान्य ही था, तभी अचानक जोरदार आवाज आई, तेज झटके की वजह से कोई सीटों में फंस गया, बस का एक हिस्सा अलग हो गया था, कुछ साथी बाहर गिर पड़े। मैंने खुद को मुश्किल से बाहर निकाला और सड़क किनारे पेड़ के नीचे लेट गया। मेरी आंखों के सामने 4 साथियों की लाशें निकाली गईं।

टुकुना बताते हैं कि हादसा के बाद किसी को संभलने का कोई मौका नहीं मिला। रात में हंसी-मजाक करते हुए सफर शुरू किया था, उनकी लाशें मेरे सामने निकाली गईं।

अब पता नहीं कैसे जीएगा मेरा परिवार

फोटो मंदिर हसौद इलाके में ली गई। यह तस्वीर हादसे के फौरन बाद ली गई जो बताने के लिए काफी है कि यह हादसा कितना भयावह रहा।
फोटो मंदिर हसौद इलाके में ली गई। यह तस्वीर हादसे के फौरन बाद ली गई जो बताने के लिए काफी है कि यह हादसा कितना भयावह रहा।

टुकुना ने बताया कि बस में सभी साथी श्रमिक गंजाम के ही निवासी थे। सभी गुजरात के सूरत शहर जा रहे थे। इनमें से कोई कपड़ा उद्योग में मशीनें चलाता है तो कोई मजदूरी का काम करता है। टुकुना ने बताया कि गांव में या ओडिशा के शहरों में हमें काम नहीं मिलता, इस लिए हर साल सूरत जाते हैं। लॉकडाउन की वजह से गांव में ही रह रहे थे। अब जब अनलॉक हुआ तो काम के लिए सूरत लौट रहे थे। हर महीने 30 से 40 हजार रुपए की कमाई होती है। अब इस हादसे की वजह से पैर ने काम करना बंद कर दिया है, पता नहीं मैं काम कर पाउंगा या नहीं परिवार में दो बच्चे और पत्नी हैं, वो कैसे जीएंगे समझ नहीं आ रहा।

ट्रक से टकराई बस
मंदिर हसौद थाना पुलिस से मिली जानकारी के मुताबिक गुजरात के लिए रवाना तेज रफ्तार बस रात करीब 2 बजे ट्रक से पीछे से जा भिड़ी। बस बुरी तरह से क्षतिग्रस्त हुई। टक्कर की सीधी चपेट में आने वाले 8 लोगों की मौत हो गई। 5 लोग घायल हैं। बस का ड्राइवर का अब तक कोई पता नहीं वह हादसे के बाद भाग गया। ट्रक का ड्राइवर भी भाग गया, थाना प्रभारी सोनल ग्वाला ने बताया कि ओडिशा की पुलिस भी रायपुर पहुंची है । घायलों को अस्पताल पहुंचाने के बाद अब मृतकों के शव ओडिशा भेजे जाने की तैयारी कर रहे हैं। दूसरी टीम घटना की जांच भी कर रही है।

ओडिशा के मंत्री बोले कार्रवाई करेंगे

मंत्री सुसांता सिंह ने कहा कि ओडिशा के मुख्यमंत्री नवीन पटनायक ने मृतकों के परिजन को 2 लाख रुपए देने की घोषणा की है।
मंत्री सुसांता सिंह ने कहा कि ओडिशा के मुख्यमंत्री नवीन पटनायक ने मृतकों के परिजन को 2 लाख रुपए देने की घोषणा की है।

हादसे की खबर मिलते ही कुछ ही घंटों में ओडिशा के श्रम मंत्री सुसांता सिंह रायपुर पहुंचे। उन्होंने बताया कि बस में इस तरह से भरकर श्रमिकों को ले जाया जा रहा था, यह गलत है। इस पूरी घटना की हम जांच करेंगे और कार्रवाई करेंगे। रायपुर में ठीक-ठाक इलाज घायलों को मिल रहा है। हम छत्तीसगढ़ की सरकार के साथ कोऑर्डिनेट कर रहे हैं, इस मामले में। ओडिशा सरकार की तरफ से घायलों के इलाज का खर्च उठाया जाएगा। घटना के बाद 54 लोग सुरक्षित हैं। उन्हें वापस ओडिशा भेजने के लिए दो बसें मंगवाई हैं। छत्तीसगढ़ सरकार का मैं धन्यवाद दूंगा कि सही समय पर घायलों को अस्पताल लाया गया।

Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today


फोटो अंबेडकर अस्पताल में इलाज करवा रहे घायल श्रमिक टुकुना की है। इनके भाई का इलाज डीकेएस अस्पताल में किया जा रहा है। इस हादसे में कुल 5 लोग घायल हैं।

Powered by WPeMatico

%d bloggers like this: