Our website is made possible by displaying online advertisements to our visitors. Please consider supporting us by whitelisting our website.

मलकाजगिरी में साढ़े 13 घंटे में 15 सेमी से ज्यादा पानी बरसा, हैदराबाद में झील ओवरफ्लो होने से बाढ़


हैदराबाद में फिर भारी बारिश हुई। शनिवार शाम 6 बजे शुरू हुई बारिश रविवार सुबह तक जारी रही। 13 अक्टूबर की रात हुई बारिश के बाद जो स्थिति बनी थी, एक बार फिर से शहर में वही हालात पैदा हो गए। कई इलाकों में सड़कों पर पानी भर गया। ट्रैफिक जाम हो गया। कार पानी में बहती नजर आई। हाइवे पर गाड़ियां ठहर गई। शहर के बालानगर इलाके की झील ओवरफ्लो हो गई। इसके आसपास के निचले इलाकों में पानी भर गया।

मेडचल मलकजगिरी के सिंगापुर टाउनशिप और उप्पल के पास बंडलगुडा में 15 सेमी से ज्यादा बारिश रिकॉर्ड हुई। इसके साथ ही नामपल्ली, अबिदस, कोठी, बशीरबाग, खैरताबाद, गोशमहल और विजयनगर कॉलोनी में सड़कों पर पानी भर गया। ग्रेटर हैदराबाद म्युनिसिपल कॉर्पोरेशन (जीएचएमसी) के डिजास्टर रिस्पॉन्स फोर्स (डीआरएफ) पानी निकालने में जुटी हुई है।

मुख्य सड़कों पर ट्रैफिक जाम

हैदराबाद-वारंगल, हैदराबाद- विजयवाड़ा मुख्य सड़क पानी में डूब गई, जिससे दोनों सड़कों पर ट्रैफिक जाम हो गया। चत्रिनाका इलाके में बाढ़ के पानी में कई गाड़ियां बह गई। फलकनुमा रेलवे ब्रिज पर एक बड़ा गड्ढा बन गया। इसके बाद पुल पर गाड़ियों की आवाजाही रोक दी गई। गगनपहाड़ इलाके में एक तालाब को पानी ओवरफ्लो होकर आसपास के घरों में घुस गया। इन इलाकों में राहत टीम लोगों को उनके घरों से बाहर निकलने में मदद कर रही है।

राज्य सरकार के मुताबिक अब तक 5 हजार करोड़ का नुकसान

राज्य सरकार ने 15 अक्टूबर को कहा था कि भारी बारिश से अब तक 50 लोगों की जान गई है। राज्य सरकार को बाढ़ और बारिश से करीब 5 हजार करोड़ रु. का नुकसान हुआ है। राज्य सरकार बारिश प्रभावित इलाकों में राहत कार्य कर रही है। वहीं, मौसम विभाग ने कहा है कि बारिश से रविवार को राहत मिलने की उम्मीद है। रविवार को कुछ इलाकों में एक या दो बार हल्की से मध्यम बारिश हो सकती है।

शनिवार रात हुई भारी बारिश के बाद हैदराबाद की पानी से भरी एक सड़क से गुजरती गाड़ियां।

आज की ताज़ा ख़बरें पढ़ने के लिए दैनिक भास्कर ऍप डाउनलोड करें


हैदराबाद में शनिवार को हुई भारी बारिश के बाद सड़कों पर घुटनेभर पानी भर गया। लोगों को घर जाने में मशक्कत करनी पड़ी।

Powered by WPeMatico

%d bloggers like this: