Our website is made possible by displaying online advertisements to our visitors. Please consider supporting us by whitelisting our website.

गलत जानकारी देकर बीपीएल कार्ड बनाने वालों की होगी जांच


जिले में बनाए गए बीपीएल राशन कार्डधारियों का सत्यापन होने वाला है। जिले में तकरीबन 15 हजार ऐसे कार्डधारी है, जिन्होंने गलत जानकारी देकर बीपीएल कार्ड बनवा लिया है। अधिकांश ने खुद को भूमिहीन मजदूर बताया था। जिससे उन्होंने बीपीएल कार्ड बनवाया लिया है। अब इन कार्डधारियों को उनके वार्ड और कार्ड नंबर के आधार पर ट्रेस किया जा रहा है। यानि कि ऐसे कार्डधारियों की जांच की जा रही है। गलत जानकारी देकर कार्ड बनवाने वाले सबसे ज्यादा भिलाई निगम क्षेत्र में है। जिसकी जांच के लिए नगर निगम भिलाई ने सभी 5 जोन के लिए टीम का गठन कर दिया है।
अब ये टीम सप्ताहभर के भीतर जांच कर अपनी रिपोर्ट देंगे। सरकार ने इस बार अपात्र लोगों के कार्ड निरस्त नहीं करेगी। जिनके बीपीएल कार्ड बने हैं, उन्हें एपीएल में समायोजन किया जाएगा। नगरीय निकाय व खाद्य विभाग द्वारा संयुक्त जांच किया जाएगा। ताकि सभी के पास कार्ड रहे। वहीं जो लोग छूट गए हैं, उनका भी कार्ड बनाया जाएगा। इसके लिए निगम की टीम लिस्ट लेकर डाेर-टू-डोर जाएगी। वार्डों में पहुंचकर राशनकार्डों का सत्यापन किया जाएगा। उनके गरीबी रेखा कार्ड व जमीन संबंधित रिपोर्ट की जांच की जाएगी। ताकि सही जानकारी मिल सके।

आखिर इतने दिनों बाद खुलासा कैसे, जानिए
राज्य सरकार ने छग खाद्य एवं पोषण सुरक्षा अधिनियम की धारा-15 की उपधारा-3 (ख) व ग के प्रावधान के अनुसार भूमिहीन कृषि मजदूर, कृषि मजदूर, सीमांत एवं लघु कृषकों को प्राथमिकता राशनकार्ड जारी किया गया है। किसानों ने वर्ष-2019-20 में धान बेचा है। आधार नंबर से राशन कार्ड नंबर व आधार नंबर का मिलान किया गया।

निगम ने जांच के लिए 5 टीम का किया गठन
जोन-1 नेहरू नगर के वार्डों के लिए सहायक राजस्व अधिकारी शरद दुबे के नेतृत्व में जांच होगी। जोन-2 वैशालीनगर के वार्डों में सहायक राजस्व अधिकारी संजय वर्मा के नेतृत्व में जांच होगी। जोन-3 मदर टेरेसा नगर के वार्डों में सहायक राजस्व अधिकारी परमेश्वर चंद्राकर के नेतृत्व में जांच होगी। जोन-4 व 5 में जिम्मेदारी तय की गई है।

रिकॉल: भिलाई में पहले भी बने फर्जी राशन कार्ड
फर्जी राशन कार्ड बनाने का खेल भिलाई में पहले से चल रहा है। 2013 से लेकर 2015 के बीच में हजारों कार्ड बनाए गए थे। जिसे निरस्त किया गया। गलत जानकारी देकर कार्ड बनाने का खेल लंबे समय तक चलता रहा है। कार्डधारियों की दोबारा जांच होगी।

खाद्य विभाग के निर्देश पर आज से होगी जांच
“बीपीएल कार्डधारियों के सत्यापन के लिए निगम क्षेत्र के सभी जोन में सत्यापन दल का गठन कर लिया गया है। हम खाद्य विभाग को सबमिट करेंगे। गलत जानकारी देने वालों पर कार्रवाई होगी।”
-चंद्रपाल हरमुख, सहायक नोडल अफसर

भूमिहीन मजदूर बनकर बीपीएल कार्ड बनवाया
“भूमिहीन मजदूर बनकर जिन्होंने बीपीएल कार्ड बनवाए थे, उनकी जांच होने वाली है। इसके लिए निकायों को निर्देश दिए गए हैं। जांच रिपोर्ट आने के बाद ऐसे लोगों को बीपीएल की जगह एपीएल कार्ड देंगे।”
– सीपी दीपांकर, खाद्य नियंत्रक

Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today

Powered by WPeMatico

%d bloggers like this: