Our website is made possible by displaying online advertisements to our visitors. Please consider supporting us by whitelisting our website.

मुंबई की देवांशी शाह ने अपने प्यारे डॉगी ‘हेजल’ को खोने के बाद की ‘पेट कनेक्ट’ की शुरुआत, यहां डॉग्स के लिए जरूरी सारी सुविधाएं उपलब्ध हैं


अगर आपके घर में कोई पालतू जानवर है और आप इनसे प्यार करते हैं तो आप ये भी जानते होंगे कि इनकी देखभाल करना आसान नहीं है। फिर भी कई लोग ऐसे हैं जो इन पेट्स को अपने बच्चों की तरह प्यार करते हैं।

उनके साथ रहते हुए वो वक्त भी आता है जब ये पेट्स भी इंसानों की तरह इस दुनिया से चले जाते हैं। ऐसे में उन लोगों का दुखी होना लाजिमी है जिन्होंने अपना हर दिन इन्हें अपनापन देने में बिताया हो। अपने पालतू डॉगी को ऐसा ही दुलार मुंबई की देवांशी शाह ने भी दिया है।

पिछले दिनो सोशल मीडिया पर देवांशी की कहानी वायरल हुई। देवांशी के पेट डॉग का नाम हेजल था। देवांशी उसे याद करते हुए उस दिन का जिक्र करती है जब उसके भाई ने देवांशी को उसकी 20 सालगिरह पर इस डॉग को को गिफ्ट किया था।

उसका वजन 600 ग्राम था और वो देवांशी की हथेली पर ही आ जाता था। देवांशी उसके साथ वॉक पर जाती। वे नाश्ता भी हेजल के साथ बैठकर एक ही टेबल पर करती थीं। देवांशी का पूरा दिन हेजल के साथ बितता। हेजल के साथ देवांशी की कई यादें जुड़ी हुई हैं।

उसके बाद वो वक्त भी आया जब हेजल बीमार रहने लगा। देवांशी ने उसका इलाज भी करवाया लेकिन जल्दी ही वे इस दुनिया से चला गया। हेजल के न रहने से देवांशी की जिंदगी सूनी हो गई। अपने इस सूनेपन से उबरने के लिए उसने एक ऑनलाइन कम्युनिटी की शुरुआत की जिसे ‘पेट कनेक्ट’ नाम दिया। ये कम्युनिटी डॉग पैरेंट्स को वो सारी सुविधाएं उपलब्ध कराती है जो उनके डॉगी की देखभाल में मदद करती हैं।

यहां तक कि महामारी के दौरान भी देवांशी ने अपनी सेवाओं को 24 घंटे जारी रखा ताकि पेट्स को किसी तरह की असुविधा न हो। सोशल मीडिया पर देवांशी की इस दिल छू लेने वाली कहानी को लाइक किया गया। किसी ने इसे ‘अमेजिंग’ बताया तो कोई हेजल को देवांशी के लिए ‘इंस्पिरेशन’ बता रहा है।

Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today


Devanshi Shah of Mumbai launches ‘Pet Connect’ after losing her beloved doggie ‘Hazel’, here all the facilities needed for dogs are available.

Powered by WPeMatico

%d bloggers like this: