Our website is made possible by displaying online advertisements to our visitors. Please consider supporting us by whitelisting our website.

बिना लक्ष्य के नहीं जीती जा सकती जिंदगी की दाैड़: कलेक्टर


आगामी बोर्ड परीक्षाओं के मद्देनजर यशस्वी जशपुर कार्यक्रम के तहत 10 वीं एवं 12 वीं बोर्ड के छात्रों के लिए ऑनलाइन करियर गाइडेंस कार्यशाला का आयोजन किया गया। इसमें विशेषज्ञों की टीम ने स्टूडेंट्स के सवालों का जवाब देकर उनकी जिज्ञासा शांत की जा रही है। रविवार को ऑनलाइन वर्कशॉप में जिला कलेक्टर महादेव कावरे ने कहा कि हर किसी का सपना होता है कि वह जिंदगी की दौड़ में आगे निकल जाए लेकिन बिना लक्ष्य निर्धारण के यह संभव नहीं होगा। परिश्रम एवं दृढ़ संकल्प के बल पर जिंदगी में हर स्पर्धाएं जीती जा सकती है ।
विपरीत परिस्थितियों में जूझकर जाे रेस में आगे निकल जाते हैं, वे ही एक अच्छे कलाकार होते हैं, क्योंकि लक्ष्य प्राप्ति के लिए एक अच्छे परफार्मर के रूप में रोल निभाने पड़ते हैं, जो सफलता की दिशा एवं दशा तय करते हैं। सफलता का कोई रहस्य नहीं होता एवं यह कोई आकस्मिक संयोग भी नहीं होता है। सफलता पाने के लिए धैर्य, एकाग्रता एवं सूक्ष्म अध्ययन करने की आवश्यकता होती है। उन्होंने सिविल सेवा परीक्षाओं की तैयारी के लिए समग्र जानकारी साझा करते हुए स्टूडेंट्स से कहा कि वे नियमित प्रमुख समाचार पत्रों का अध्ययन करें। इंटरनेट का उपयोग बेहतर सीख के लिए किया जा सकता है। उन्होंने अध्ययन सामग्री के चयन की प्रासंगिकता के लिए भी सुझाव दिए। कार्यशाला में डीएफओ जाधव श्रीकृष्ण (आईएफएस) ने कहा परीक्षाओं में सफलता काफी हद तक इस बात पर निर्भर करती है कि स्टूडेंट्स के अध्ययन का तरीका किस प्रकार का है । सभी विषयों में उत्कृष्ट अंक हासिल करने के लिए योजना के तहत अध्ययन की जरूरत होती है एवं समय प्रबंधन का भी ध्यान रखना होता है। विषयों की योजना बनाते समय कुछ महत्वपूर्ण बातों का ध्यान रखना भी जरूरी होता है। उन्होंने सभी महत्वपूर्ण विषयों में बेहतर प्रदर्शन करने के आइडिया साझा किए एवं कहा कि स्टूडेंट्स को विगत वर्षों के बोर्ड परीक्षा के प्रश्नों को परीक्षा पूर्व अवश्य विश्लेषण करना चाहिए। इससे उन्हें परीक्षा में पूछे जाने वाले प्रश्नों के क्षेत्र व प्रश्नों के पैटर्न का पता चलेगा। वर्कशॉप में जशपुर से विशेषज्ञ एसपी यादव ने कहा कि विषयों की जटिलता मनोवैज्ञानिक सोच पर निर्भर करती है। भौतिक शास्त्र, गणित, रसायन शास्त्र,जीव विज्ञान एवं अन्य महत्वपूर्ण विषयों पर माइक्रो व एनालिटिकल अध्ययन कर उत्कृष्ट अंक प्राप्त किए जा सकते हैं।

प्रतियाेगिता में 1198 स्टूडेंट्स हुए शाामिल
स्पर्धा परीक्षा नियंत्रक ने बताया कि प्रतियोगिता में भारतीय इतिहास, कला संस्कृति, साइंस एवं टेक्नोलॉजी, भारत का भूगोल, छत्तीसगढ़ सामान्य ज्ञान ,तार्किक एवं मानसिक योग्यता ,समसामयिक घटनाओं आदि पर आधारित सामान्य अध्ययन के 100 बहुविकल्पीय प्रश्न छात्रों को गूगल डॉक्यूमेंट के माध्यम से शेयर किया गया। इसमें जिले सहित छत्तीसगढ़ राज्य के 25 जिलों के 1198 स्टूडेंट्स शामिल हुए। प्रतियोगिता में उत्कृष्ट अंक प्राप्त प्रतिभागियों को सर्टिफिकेट ऑफ एक्सीलेंस देकर सम्मानित किया जाएगा।

Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today

Powered by WPeMatico

%d bloggers like this: