Our website is made possible by displaying online advertisements to our visitors. Please consider supporting us by whitelisting our website.

बाइडेन कोरोना और क्लाइमेट चेंज पर बड़ा फैसला ले सकते हैं, पर ट्रम्प हार मानने को तैयार नहीं


अमेरिकी चुनावों में डेमोक्रेट जो बाइडेन और कमला हैरिस की जीत हो चुकी है। 20 जनवरी को बाइडेन शपथ लेंगे। डेमोक्रेट्स ने सत्ता हस्तांतरण की तैयारी भी शुरू कर दी है। बाइडेन और हैरिस ने इसके लिए वेबसाइट BuildBackBetter.com और ट्विटर अकाउंट @Transition46 भी बनाया है। वहीं, राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प अभी भी हार मानने के लिए तैयार नहीं हैं। उन्हें नतीजों पर अब भी शक है। बाइडेन को 279 और ट्रम्प को 214 इलेक्टर्स वोट मिले हैं। जीत के लिए 270 वोट जरूरी होते हैं।

न्यूज एजेंसी AFP के मुताबिक, बाइडेन की कोरोना से लड़ने के लिए एक टास्क फोर्स बनाने की योजना है। कोरोना से लड़ाई में ट्रम्प की नाकामी को बाइडेन ने प्रमुख मुद्दा बनाया था। वहीं, बाइडेन पेरिस क्लाइमेट समझौते दोबारा से जॉइन करने पर भी विचार कर रहे हैं। साथ ही वे मुस्लिम देशों पर लगाए ट्रैवल बैन के ट्रम्प के ऑर्डर को उलट सकते हैं।

ट्रम्प के बर्ताव पर ज्यादातर रिपब्लिकन दिग्गज खामोश
पूर्व राष्ट्रपति जॉर्ज डब्ल्यू बुश (74) ने कहा है कि चीजें तय हो चुकी हैं। अलग तरीके से अपनी बात रखते हुए बुश बोले कि मैंने प्रेसिडेंट इलेक्ट बाइडेन और कमला हैरिस को कहा था कि उन्हें मिल रही शुभकामनाओं को और विस्तार देना चाहिए। क्या ट्रम्प को दोबारा गिनती का हक है, इस पर बुश ने कहा कि अमेरिकियों को भरोसा है कि चुनाव निष्पक्ष तरीके से हुए हैं। हमारी मजबूती बरकरार रहेगी। चीजें साफ हो चुकी हैं।

बुश के मुताबिक, ‘राजनीतिक मतभेद होना अलग बात है, पर मैं जानता हूं कि बाइडेन अच्छे व्यक्ति साबित होंगे और देश को एकजुट करेंगे। हमें अपने परिवार, पड़ोसियों, देश और भविष्य के लिए साथ आना होगा।’

4 बातों पर फोकस
बाइडेन की टीम ने ट्रांजिशन वेबसाइट में चार चीजों को प्रमुखता दी है- कोरोनावायरस, आर्थिक मजबूती, नस्लीय समानता और क्लाइमेट चेंज। डेमोक्रेट्स की तरफ से जारी बयान में कहा गया है कि पहले दिन (20 जनवरी 2021) से ही इन चुनौतियों पर हमारी नजर रहेगी। बताया जा रहा है कि बाइडेन ऐसी कैबिनेट बनाना चाहते हैं, जिससे देश की विविधता दिख सके।

धर्म में आस्था
बाइडेन, जॉन एफ कैनेडी के बाद राष्ट्रपति चुने वाले दूसरे कैथोलिक हैं। रविवार सुबह बाइडेन अपने होमटाउन विल्मिंग्टन (डेलावेयर) में चर्च गए और ग्रेवयार्ड जाकर अपने बेटे बो बाइडेन, पहली पत्नी और बेटी को श्रद्धांजलि दी। 2015 में बेटे बो की मौत कैंसर से हो गई थी। 1972 में पहली पत्नी और बेटी कार एक्सीडेंट मारे गए थे।

ट्रम्प परिवार सच्चाई से दूर
ट्रम्प ने ट्वीट किया, ‘लेमस्ट्रीम (मुख्य मीडिया से इतर) मीडिया में ही चर्चा है कि अगला राष्ट्रपति कौन होगा?’

उधर, ट्रम्प की पत्नी मेलानिया ने ट्वीट किया, ‘अमेरिकी निष्पक्ष चुनाव चाहते हैं। चुनाव वैध हो, अवैध नहीं। हर वोट की गिनती होनी चाहिए।’

आज की ताज़ा ख़बरें पढ़ने के लिए दैनिक भास्कर ऍप डाउनलोड करें


प्रेसिडेंट इलेक्ट जो बाइडेन रविवार को विल्मिंगटन के कब्रगाह में परिवार के लोगों को श्रद्धांजलि देने पहुंचे।

Powered by WPeMatico

%d bloggers like this: