अंडर-19 वर्ल्ड कप आज से; 16 टीमें 48 मैच खेलेंगी, 4 बार के चैंपियन भारत का पहला मैच 19 जनवरी को श्रीलंका से

खेल डेस्क. अंडर-19 वनडे वर्ल्ड कप आज से दक्षिण अफ्रीका में शुरू हो रहा है। इसमें16 टीमें 48 मैच खेलेंगी। सेमीफाइनल 4 और 6 फरवरी, जबकि फाइनल9 फरवरी को होगा। टूर्नामेंट का पहला मैच दक्षिण अफ्रीका और अफगानिस्तान के बीच होगा। इससे पहले उद्धाटन समारोह हुआ, जिसमें दक्षिण अफ्रीका की सांस्कृतिक विरासत की झलक देखने को मिली।मौजूदा चैंपियन भारत कोएक बार फिर खिताब काप्रबल दावेदार माना जा रहा है। टीम सबसे ज्यादा 4 बार चैंपियन बनी है। भारत को ग्रुप-ए में रखा गया है, जिसमें जापान, न्यूजीलैंड और श्रीलंका भी हैं।भारतीय टीम अपना पहला मैच श्रीलंका से 19 जनवरी को खेलेगी।

ग्रुप बी में ऑस्ट्रेलिया, इंग्लैंड, नाइजीरिया और वेस्टइंडीज हैं। ग्रुप-सी में बांग्लादेश, पाकिस्तान, स्कॉटलैंड और जिम्बाब्वे हैं, जबकि ग्रुप-डी में अफगानिस्तान, कनाडा, दक्षिण अफ्रीका और संयुक्त अरब अमीरात हैं। नाइजीरिया और जापान ने पहली बार क्वालिफाई किया है।

भारत के ग्रुप मुकाबले
(दोपहर 1.30 बजे से)
भारत बनाम श्रीलंका 19 जनवरी
भारत बनाम जापान 21 जनवरी
भारत बनाम न्यूजीलैंड 24 जनवरी

भारत ने ऑस्ट्रेलिया को हराकर पिछला खिताब जीता था

अंडर-19 का यह 13वां वर्ल्ड कप होगा। फरवरी 2018 में खेले गए वर्ल्ड कप फाइनल में भारतीय टीम ने ऑस्ट्रेलिया को 8 विकेट से हराया था। तब टीम के कप्तान पृथ्वी शॉ थे। फाइनल में मनजोत कालरा ने नाबाद 101 रन की पारी खेली थी।भारतअब तक 4, ऑस्ट्रेलिया ने 3, पाकिस्तान ने 2 और इंग्लैंड, वेस्ट इंडीज एवं साउथ अफ्रीका 1-1 बार यह विश्व कप जीत चुके हैं।हर ग्रुप से दो शीर्ष टीमें सुपर लीग में पहुंचेंगी। चार शहरों और आठ मैदानों पर कुल 24 मैच खेले जाएंगे।

चारों ग्रुप की टीमें

ग्रुप-ए ग्रुप-बी ग्रुप-सी ग्रुप-डी
भारत ऑस्ट्रेलिया पाकिस्तान अफगानिस्तान
श्रीलंका इंग्लैंड बांग्लादेश दक्षिण अफ्रीका
न्यूजीलैंड वेस्टइंडीज जिम्बाब्वे यूएई
जापान नाइजीरिया स्कॉटलैंड

कनाडा



Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
भारतीय कप्तान प्रियम गर्ग अंडर-19 वर्ल्ड कप की ट्रॉफी के साथ।

‘सावधान इंडिया’ क्राइम शो की एक्ट्रेस को हाईप्रोफाइल सेक्स रैकेट से बचाया

महाराष्ट्र के मुंबई में पुलिस ने एक हाई प्रोफाइल सेक्स रैकेट का भंड़ाफोड़ करते हुए 29 साल की एक महिला को गिरफ्तार किया है तथा एक नाबालिग समेत तीन महिलाओं को वहां से बचाया है। बताया जा रहा है कि बचाई…

आतंक रोधि कोर्ट ने 87 लोगों को 4785 साल की सजा सुनाई, आरोपियों की चल-अचल संपत्ति जब्त करने का आदेश

इस्लामाबाद.पाकिस्तान के आतंक रोधि कोर्ट (एटीसी) ने तहरीक-ए-लब्बैक पाकिस्तान(टीएलपी) पार्टी पर बड़ी कार्रवाई की है। कोर्ट ने टीएलपी प्रमुख खादिम हुसैन रिजवी के भाई और भतीजे समेत पार्टी के 87 कार्यकर्ताओं को कुल मिलाकर 4738 साल की सजा और 11 करोड़ 74 लाख रुपए का जुर्माना लगाया।रावलपिंडी एटीसी कोर्ट के जज शौकत कमाल डार ने गुरुवार देर रात यह आदेश जारी किया। कोर्ट ने सभी आरोपियों की चल-अचल संपत्ति जब्त करने का भी निर्देश दिया।

पुलिस ने 18 नवम्बर 2018 को टीएलपी प्रमुख खादिम हुसैन रिजवी, उनके भाई आमीर हुसैन रिजवी और भतीजे मोहम्मद अली समेत 87 अन्य धार्मिक कार्यकर्ताओं को गिरफ्तार किया। ये सभी अशांति फैलाने के आरोप में हिरासत में लिए गए थे।

सभी आरोपीपर 1लाख 35 हजार रुपए का जुर्माना लगाया

एटीसी कोर्ट ने सभी आरोपियों को 55 साल की सजा सुनाई। हर एक पर 1 लाख 35 हजार रुपए का जुर्माना भी लगाया है। जुर्माना नहीं भरने पर इन सभी की सजा 146 साल बढ़ जाएगी। सजा सुनाते वक्त रावलपिंडी एटीसी कोर्ट में भारी सुरक्षा व्यवस्था की गई थी। पुलिस, एलिट फोर्ट और विशेष शाखा के अधिकारियों को तैनात किया गया था। कोर्ट की कार्यवाही समाप्त होने के बाद आरोपियों को तीन बसों में भरकर अटोक जेल ले जाया गया।

टीएलपी ने नवम्बर 2018 में पाकिस्तान भर में प्रदर्शन किया था

टीएलपी ने नवम्बर 2018 में अन्य पार्टियों के साथ मिलकर पाकिस्तान के विभिन्न शहरों में धरना दिया था। ये प्रदर्शन ईशनिंदा के झूठे आरोप में 8 साल जेल में काटने वाली इसाई महिला आसिया बीवी को रिहा करने करने के निर्णय के विरोध में हुए थे। इस दौरान उग्र प्रदर्शनकारियों ने सरकारी संपत्तियों को नुकसान पहुंचाया था और रिक्शा, कॉर और ट्रकों में आग लगाई थी। सरकार और धार्मिक पार्टियों के बीच 4 बिंदुओं पर समझौता होने के बाद विरोध समाप्त हुआ था।



Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
तहरीक-ए-लब्बैक पाकिस्तान (टीएलपी) पार्टी ने नवम्बर 2018 मे पूरे पाकिस्तान में हिंसक प्रदर्शन किया था।

भारत-ऑस्ट्रेलिया दूसरा वनडे थोड़ी देर में, चोटिल ऋषभ पंत की जगह केएस भरत टीम में शामिल

खेल डेस्क. भारत और ऑस्ट्रेलिया के बीच तीन वनडे की सीरीज का दूसरा मुकाबला आज राजकोट के सौराष्ट्र क्रिकेट एसोसिएशन स्टेडियम में खेला जाएगा। चोटिल विकेटकीपर ऋषभ पंत इस मैच में नहीं खेलेंगे। उनकी जगह कर्नाटक के विकेटकीपर केएस भरत को टीम में शामिल किया गया, लेकिन राजकोट में उनके खेलने की संभावना कम ही है।पहले वनडे में तेज गेंजबाज पैट कमिंस की गेंद पंत के हेलमेट पर लगी थी। वे बेंगलुरु में नेशनल क्रिकेट एकेडमी में रिहैबिलिटेशन के लिए गए हैं।

विराट कोहली के पास बतौर कप्तान तीनों फॉर्मेट (वनडे, टेस्ट और टी-20) में सबसे ज्यादा शतक लगाने का मौका है। फिलहाल, कोहली 41 शतक लगाकर पूर्व ऑस्ट्रेलियाई कप्तान रिकी पोंटिंग के साथ शीर्ष पर हैं। ऑस्ट्रेलिया मुंबई वनडे 10 विकेट से जीतकर सीरीज में 1-0 से आगे है।

विराट-पोंटिंगटी-20 में शतक नहीं लगा पाए

कोहली ने बतौर कप्तान 53 टेस्ट में 20 और 80 वनडे में 21 शतक लगाए हैं। वे अब तक 27 टी-20 में एक भी शतक नहीं लगा पाए हैं।पोंटिंग ने 77 टेस्ट में 19 और 230 वनडे में 22 शतक ठोके हैं। वेभी 17 टी-20 में शतक नहीं जमा पाए थे।

बतौर कप्तान तीनों फॉर्मेट में सबसे ज्यादा शतक लगाने वाले टॉप 6 बल्लेबाज

खिलाड़ी मैच पारी रन शतक देश
विराट कोहली 170 197 11041 41 भारत
रिकी पोंटिंग 324 376 15440 41 ऑस्ट्रेलिया
ग्रीम स्मिथ 286 368 14878 33 द. अफ्रीका
स्टीव स्मिथ 93 118 5885 20 ऑस्ट्रेलिया
माइकल क्लार्क 139 171 7060 19 ऑस्ट्रेलिया
ब्रायन लारा 172 204 8410 19 वेस्टइंडीज

राजकोट में भारत अब तक वनडे नहीं जीता
सौराष्ट्र क्रिकेट एसोसिएशन स्टेडियम में भारत ने अब तक दो वनडे खेले, जिनमें उसे हार मिली है। पिछला मैच भारत ने 18 अक्टूबर 2015 को दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ खेला था। यह मैच अफ्रीका ने 18 रन से जीता था। इससे पहले 11 जनवरी 2013 को इंग्लैंड ने भारतीय टीम पर 9 रन से जीत दर्ज की थी।

हेड-टू-हेड
दोनों टीमों के बीच अब तक हुए 138 वनडे में भारतीय टीम 50 में ही जीत सकी। ऑस्ट्रेलिया की टीम 78 में जीती। 10 मुकाबले बेनतीजा रहे। वहीं, भारत में दोनों के बीच अब तक 62 मैच हुए। इस दौरान टीम इंडिया 27 में जीती। 30 में हार का मिली। 5 मुकाबले बेनतीजा रहे।

दोनों टीमें
भारत: विराट कोहली (कप्तान), रोहित शर्मा (उप कप्तान), जसप्रीत बुमराह, युजवेंद्र चहल, शिखर धवन, शिवम दुबे, श्रेयस अय्यर, रविंद्र जडेजा, केदार जाधव, मनीष पांडेय, ऋषभ पंत (विकेटकीपर), लोकेश राहुल, नवदीप सैनी, मोहम्मद शमी, शार्दुल ठाकुर और कुलदीप यादव।

ऑस्ट्रेलिया: एरॉन फिंच (कप्तान), एलेक्स कैरी (विकेटकीपर), पैट कमिंस, एश्टन एगर, पीटर हैंड्सकॉम्ब, जोश हेजलवुड, मॉर्नस लबुशाने, केन रिचर्डसन, डी आर्सी शॉर्ट, स्टीव स्मिथ, मिशेल स्टार्क, एश्टन टर्नर, डेविड वॉर्नर और एडम जम्पा।



Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
ऑस्ट्रेलिया ने मुंबई में पहले वनडे में भारत को 10 विकेट से हराया था।

राष्ट्रपति ने दुष्कर्मी मुकेश की दया याचिका खारिज की, निर्भया की मां बोलीं- मेरी बच्ची की मौत से खिलवाड़ हो रहा

नई दिल्ली. राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने शुक्रवार को निर्भया केस के दोषी मुकेश कुमार की दया याचिका खारिज कर दी। गृह मंत्रालय ने कोविंद को मुकेश की दया याचिका खारिज करने की सिफारिश की थी।मुकेश ने मंगलवार शाम राष्ट्रपति को दया याचिका भेजी थी। इस बीच, दोषियों की फांसी अटकने को लेकर पीड़ित की मां आशा देवी ने नाराजगी जताई है। उन्होंने कहा कि मेरी बच्ची की मौत के साथ लगातार खिलवाड़ किया जा रहा है।दिल्ली केपटियाला हाउस कोर्ट ने चारों दोषियों को 22 जनवरी को सुबह 7 बजे फांसी देने का आदेश दिया था।पीड़ित की मां की मोदी से अपीलआशा देवी ने भावुक अपील में कहा, ‘‘जो लोग 2012 के बाद तिरंगा लेकर प्रदर्शन कर रहे थे, वे ही आज इस पर राजनीति कर रहे।घटना के बाद लोगों ने काली पट्‌टी बांधी, नारे लगाए ,लेकिन आज यही लोग उस बच्ची की मौत के साथ खिलवाड़ कर रहे हैं। आज फांसी को रोका जा रहा है और राजनीति का खेल खेला जा रहा है। प्रधानमंत्री नरेंद्रमोदी ने 2014 में कहा था कि बहुत हुआ नारी पर वार, अबकी बार मोदी सरकार।फांसी देकर समाज को संदेश दीजिए कि आप महिलाओं को सुरक्षा दे सकते हैं और देश की सुरक्षा करना चाहते हैं।’’निर्भया केस की मौजूदा स्थितिपटियाला हाउस कोर्ट ने 7 जनवरी को निर्भया के चारों दुष्कर्मियों अक्षय, पवन, मुकेश और विनय के खिलाफ डेथ वॉरंट जारी कर दिया था। इसमें आदेश दिया गया कि दोषियों को 22 जनवरी को सुबह 7 बजे तिहाड़ जेल में फांसी पर चढ़ाया जाए। इसके बाद दो दोषियों मुकेश और विनय ने सुप्रीम कोर्ट में क्यूरेटिव पिटीशन दायर की। सुप्रीम कोर्ट ने 14 जनवरी को दोनों की याचिका खारिज कर दी। एक दोषी मुकेश ने 14 जनवरी को ही राष्ट्रपति के पास दया याचिका भेजी औरहाईकोर्ट से डेथ वॉरंट रद्द करने की मांग की। हाईकोर्ट ने उसकी याचिका खारिज करते हुए निचली अदालत में अर्जी दायर करने को कहा।वहीं, दिल्ली सरकार ने दया याचिका खारिज करने की सिफारिश करते हुए इसे उपराज्यपाल अनिल बैजल के पास भेजा था। उपराज्यपाल ने भी केंद्रीय गृह मंत्रालय से मुकेश की दयायाचिका खारिज करने की सिफारिश की थी। आज की ताज़ा ख़बरें पढ़ने के लिए दैनिक भास्कर ऍप डाउनलोड करें Nirbhaya Rapists Death Warrant | Nirbhaya Rape Convict Mukesh Singh Mercy Petition Latest News and Updates On Rashtrapati Bhavan Over Delhi Gang Rape And Murder Case 2012

पॉकेटमारी के आरोप में दो भारतीय समेत 7 गिरफ्तार, पुलिस ने पकड़ने के लिए चलाया था ऑपरेशन गेलफोर्स

मेलबर्न.ऑस्ट्रेलिया पुलिस ने दो भारतीय समेत 7 लोगों को पॉकेटमारी के आरोप में गिरफ्तार किया है। गुरुवार को पकड़े गए चार पुरुष और तीन महिलाओं वाले इस गिरोह के पांच सदस्य श्रीलंकाई नागरिक है। दो गिरफ्तार भारतीय नागरिकों में एक महिला है। यह पिछले दो महीने से मेलबर्न के सेंट्रल बिजनेस डिस्ट्रिक्ट में ट्रेन, बस और ट्राम नेटवर्क से सफर करने वाले लोगों को निशाना बना रहे थे। कई मामले सामने आने के बाद पुलिस ने इन्हें पकड़ने के लिए ‘ऑपरेशन गेलफोर्स’ चलाया था।

विक्टोरिया पुलिस की प्रवक्ता मेलिसा सीच ने कहा गिरोह के सभी सदस्यों को अलग-अलग स्थानों से गिरफ्तार किया गया। ऑस्ट्रेलियन बोर्डर पुलिस विदेशी नागरिकों को डिपोर्ट करने पर विचार कर सकती है। इन सभी पर चोरी का मामला दर्ज किया गया है।

पुलिस ने टीम बनाकर प्रमुख स्थानों पर नजर रखी

सार्जेंट क्रिस ओ ब्रीन ने कहा कि हमने शहर में हो रही चोरी और पॉकेटमारी की जांच की। आरोपी मौके के हिसाब से एक साथ मिलकर वारदातों को अंजाम दिया करते थे। विक्टोरिया पुलिस ने इसे गंभीरता से लिया। पुलिस ने कई टीमें बनाकर प्रमुख स्थानों पर नजर रखी और आरोपियों की गिरफ्तारी सुनिश्चित की।

क्या है ऑपरेशन गेलफोर्स

सार्जेंट ब्रीन के मुताबिक, ऑपरेशन गेलफोर्स पब्लिक ट्रांसपोर्ट नेटवर्क में हो रही पॉकेटमारी का पता लगाने के लिए दिसंबर 2019 में शुरू किया गया था। इसे ट्रांजिट सेफ्टी डिविजन और मेलबर्न टास्किंग यूनिट (एमटीयू) ने साथ मिलकर चलाया गया। 8 जनवरी को इसके तहत एल्बिओन इलाके के एक घर पर छापेमारी कर नकदी और चोरी के सामान बरामद किए गए थे। गुरुवार को सभी आरोपियों के खिलाफ वारंट जारी हुआ। अब इन्हें14 अप्रैल को मेलबर्न मजिस्ट्रेट कोर्ट के सामने पेश होंगे।

आस्ट्रेलिया में जेब काटने की क्या सजा है:
आस्ट्रेलिया में जेब काटने पर चोरी का मामला दर्ज होता है। ऐसे मामलों में 10 साल तक की जेल का प्रावधान है। हालांकि 12 साल से कम उम्र के बच्चे या 60 साल से अधिक उम्र के बुजुर्ग के साथ यह अपराध करने पर सजा की अवधि 15 साल तक बढ़ाई जा सकती है। चोरी के माल की कीमत 50 लाख से कम होने पर ऐसे मामलों मे काउंटी कोर्ट या मजिस्ट्रेट कोर्ट में सुनवाई होती है।



Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
पिछले दो महीने से मेलबर्न की ट्रेन, बस और ट्रामों में हो रही पॉकेटमारी करने वाला गिरोह गिरफ्तार।

पुरानी इमारत के सामने ही नया संसद भवन बनेगा, साउथ ब्लॉक के पीछे नया प्रधानमंत्री आवास बनेगा

नई दिल्ली. राष्ट्रपति भवन से इंडिया गेट के बीच नई इमारतों के लिए सेंट्रल विस्टा का मास्टर प्लान तैयार कर लिया गया है। इस इलाके में संसद के दोनों सदनों के लिए ज्यादा सदस्यों की क्षमता वाली नई इमारतें बनाई जाएंगी। साथ ही केंद्रीय सचिवालयके लिए 10 नई इमारतें बनाई जाएंगी। राष्ट्रपति भवन, मौजूदा संसद भवन, इंडिया गेट और राष्ट्रीय अभिलेखागार की इमारत को वैसा ही रखा जाएगा। इस प्लान में बीते तीन महीने में छह बार बदलाव किए गए हैं। केंद्रीय शहरी विकास मंत्री हरदीप सिंह पुरी ने भास्कर को बताया कि ये बदलाव सुझावों के मुताबिक किए गए हैं। अभी यह मास्टर प्लान अंतिम नहीं है।सेंट्रल विस्टा के मास्टर प्लान के मुताबिक पुुराने गोलाकार संसद भवन के सामने गांधीजी की प्रतिमा के पीछे नया तिकोना संसद भवन बनेगा। नए संसद भवन में दोनों सदनों लोकसभा और राज्यसभा के लिए एक-एक इमारत होगी, लेकिन सेंट्रल हॉल नहीं बनेगा। यह 13 एकड़ जमीन पर बनेगा। इस जमीन पर अभी पार्क, अस्थायीनिर्माण और पार्किंग है।लोकसभा में अभी 545 सांसद, नए सदन को 900 सांसदों के लायक बनाया जाएगालोकसभा की नई इमारत में सदन के अंदर 900 सीटें होंगी। ऐसा इसलिए किया जा रहा है, ताकि भविष्य में लोकसभा में सीटें बढ़ती हैं तो दिक्कत न हो। नए सदन में दो-दो सांसदों के लिए एक सीट होगी, जिसकी लंबाई 120 सेंटीमीटर होगी। यानी एक सांसद को 60 सेमी की जगह मिलेगी। संयुक्त सत्र के दौरान इन्हीं दो सीटों पर तीन सांसद बैठ सकेंगे। यानी कुल 1350 सांसद बैठ सकेंगे। राज्यसभा की नई इमारत में 400 सीटेंहोंगी। देश की विविधता दर्शाने के लिए संसद भवन की एक भी खिड़की किसी दूसरी खिड़की से मेल खाने वाली नहीं होगा। हर खिड़की अलग आकार और अंदाज की होगी।विजय चौक से इंडिया गेट के बीच 10 इमारतें बनेंगीकेंद्रीय सचिवालय के लिए विजय चौक से इंडिया गेट के बीच चार प्लॉट पर 10 आधुनिक इमारतें बनेंगी। इन्हीं इमारतों में केंद्र सरकार के सभी मंत्रालय होंगे, जबकि अभी केंद्र के 51 मंत्रालयों में से महज 22 मंत्रालय सेंट्रल विस्टा इलाके में हैं। तीन प्लॉट में तीन-तीन 8 मंजिला इमारतें और चौथे प्लॉट में एक इमारत के अलावा कन्वेंशन सेंटर होगा। इमारतों की ऊंचाई इंडिया गेट से कम होगी। एक कन्वेंशन सेंटर भी बनेगा। इसमें 8000 लोगों की बैठक क्षमता होगी। इसमें सात हॉल होंगे। सबसे बड़े हॉल में 3500 लोग बैठ सकेंगे। 2000 की क्षमता का एक, 1000 की क्षमता के दो और 500 की क्षमता के तीन हॉल होंगे। सेंट्रल सेक्रेटेरिएट और उद्योग भवन से सभी इमारतों को जोड़ने के लिए अंडर ग्राउंड पब्लिक मूवर शटल्स होंगी।नया पीएमओ बनेगा, पीछे ही प्रधानमंत्री का आवास होगामौजूदा नॉर्थ ब्लॉक के पीछे उपराष्ट्रपति आवास बनेगा, जो वहां के मौजूदा अस्थाई निर्माणों को हटाकर 90 एकड़ में बनेगा। अभी उपराष्ट्रपति आवास लुटियंस जोन में ही है, लेकिन साउथ और नाॅर्थ ब्लॉक से दूर है। साउथ ब्लॉक की मौजूदा इमारत के पीछे नया पीएमओ बनेगा। उसी के पीछे प्रधानमंत्री आवास बनेगा। अभी प्रधानमंत्री आवास 7 लोक कल्याण मार्ग पर है। इस आवास को साउथ ब्लॉक के पास बनाने से सबसे बड़ा फायदा यह होगा कि प्रधानमंत्री के अपने आवास से दफ्तर और संसद आने-जाने के लिए ट्रैफिक नहीं रोकना पड़ेगा। नॉर्थ और साउथ ब्लॉक में नेशनल हिस्ट्री म्यूजियम बनेगा। दोनों इमारतों के दफ्तर सेंट्रल एवेन्यू की पहली दो इमारतों में शिफ्ट होंगे।राष्ट्रीय अभिलेखागार इमारत के साथ कोई छेड़छाड़ नहीं होगी, बल्कि इस इलाके की सभी हैरिटेज इमारतों को वैसा ही रखा जाएगा। राष्ट्रपति भवन के पीछे नेशनल बायोडायवर्सिटी आर्बरीटम बनेगा। इसमें ग्लास हाउस बनाकर दुर्लभ पौधों को संरक्षित किया जाएगा। यमुना किनारे न्यू इंडिया गार्डन विकसित होगा। आज की ताज़ा ख़बरें पढ़ने के लिए दैनिक भास्कर ऍप डाउनलोड करें A new parliament building will be built in front of the old building, a new prime minister’s house will be built behind the South Block. A new parliament building will be built in front of the old building, a new prime minister’s house will be built behind the South Block.

अभिनेता पवन कल्याण की जन सेना पार्टी का भाजपा के साथ गठबंधन, कहा- 2024 के विधानसभा चुनाव में हमारी जीत होगी

विजयवाड़ा. अभिनेता से राजनेता बने पवन कल्याण की जन सेना पार्टी (जेएसपी) ने गुरुवार को भाजपा के साथ गठबंधन कर लिया। भाजपा नेता जीवीएल नरसिम्हा राव और पवन कल्याण ने इसकी घोषणा की। पवन कल्याण ने कहा, “लोग राज्य में तेलुगू देशम पार्टी (तेदेपा) और वाईएसआर कांग्रेसकी सरकार से तंग आ चुके हैं। वे तीसरे विकल्प की ओर देख रहे हैं। भाजपा-जेएसपी लोगों को वैकल्पिक सरकार देगी। हम साथ में मिलकर 2024 के चुनाव में जीत हासिल करेंगे।” आंध्र प्रदेश में पिछले साल हुए विधानसभा चुनाव में वाईएसआर कांग्रेस भारी बहुमत से सत्ता में आई थी। जेएसपी ने यह चुनाव में वाम दल और बसपा के साथ मिलकरलड़ा था।नरसिम्हा राव ने कहा कि भाजपा-जेएसपी गठबंधन राज्य की राजनीति को साफ करने के लिए हुआ है। यह एक ऐतिहासिक कदम है। आंध्र प्रदेश मेंभाजपा का किसी अन्य पार्टी के साथ कोई राजनीतिक संबंध नहीं है। हम जनता के मुद्दों को लेकर चुनाव में उतरेंगे और विकल्प के तौर पर आगे बढ़ेंगे।तेदेपा ने 2018 मेंभाजपा के साथ गठबंधन तोड़ा थाभाजपा नेता लंका दिनाकरण ने कहा कि राज्य और राष्ट्रहितों को देखते हुए पवन कल्याण के भाजपा में शामिल होने के निर्णय का हम स्वागत करते हैं। उन्होंने तेदेपा और वाईएसआर कांग्रेस पर वंशवाद और भ्रष्ट राजनीति को बढ़ावा देने का आरोप लगाया। दिनाकरण ने कहा, “हम जगन मोहन रेड्‌डी सरकार के जनविरोधी फैसले और आंध्र प्रदेश के तीन राजधानी बनाए जाने जैसे प्रस्तावों के खिलाफ लड़ेंगे। हम जेएसपी के साथ न्यूनतम साझा कार्यक्रम के साथ आगे बढ़ेंगे।” तेदेपा पहले भाजपा के साथ गठबंधन में शामिल थी, लेकिन मार्च 2018 में बाहर आ गई। आज की ताज़ा ख़बरें पढ़ने के लिए दैनिक भास्कर ऍप डाउनलोड करें पवन कल्याण ने 2024 के विधानसभा चुनाव को ध्यान में रखकर भाजपा से गठबंधन का फैसला लिया।

39 साल के पिता ने नाबालिग बेटी से महीनों तक दुष्कर्म किया, उसे पत्नी बनाना चाहता था

चंडीगढ़.16 साल की लड़की की जो आपबीती हम तक पहुंची, उसे पढ़कर घृणा, दुख और शर्म की स्थिति से आप न गुजरें, इसलिए हमने उसे न छापने का निर्णय लिया। पत्रकारिता धर्म को निभाते हुए सिर्फ जानकारी दे रहे हैं कि चंडीगढ़ के 39 वर्षीय व्यक्ति ने अपनी ही सगी बेटी के साथ महीनों तक न केवल दुष्कर्म किया, बल्कि इस पवित्र रिश्ते को कलंकित करते हुए उसे पत्नी बनाने के पाप पर भी उतर आया।दुष्कर्मी पांच बच्चों का पितापांच बच्चों के इस कुकर्मी पिता की शिकायत पीड़ितने अपनी मां और बुआ की मदद से चाइल्ड हेल्पलाइन में दर्ज कराई। आरोपी को 376, 506 और पाॅक्सो एक्ट की धारा 4 और 6 के तहत केस दर्ज कर गिरफ्तार कर लिया गया है। जांच में पता चला कि बेटी चार महीने की गर्भवती है। इस पापाकी दरिंदगी की कई करतूतें हैं, जिन्हें हम नहीं छाप रहे हैं।(इस घिनौनी करतूत को पढ़कर किसी पापा का सिर शर्म से झुक न जाए और कोई बिटिया सहम न जाए, इसलिए हमने इसे छापा नहीं, फोटो कीजगह खाली छोड़ दी…) आज की ताज़ा ख़बरें पढ़ने के लिए दैनिक भास्कर ऍप डाउनलोड करें The 39-year-old father raped the minor daughter for months, stigmatizing relationships and wanted to make her a wife

भारत के सबसे ताकतवर संचार उपग्रह जीसैट-30 का प्रक्षेपण सफल; अब जहां नेटवर्क नहीं, वहां भी सिग्नल मिलेगा

पेरिस. इसरो का संचार उपग्रह जीसैट-30 सफलतापूर्वक कक्षा में स्थापित हो गया है। इसे शुक्रवार सुबह2:35 बजे फ्रेंच गुआना के कौरू स्थित स्पेस सेंटर यूरोपियन रॉकेट एरियन 5-वीटी 252 से लॉन्च किया गया। लॉन्च के करीब 38 मिनट 25 सेकंड बाद सैटेलाइट कक्षा में स्थापित हो गया। 3357 किलोग्राम वजनी यह सैटेलाइट देश की संचार प्रौद्योगिकी में बदलाव लाएगा। इसरो के मुताबिक, 3357 किलो वजनी सैटेलाइट 15 साल तक काम करेगा।#Ariane5 will deploy its two satellite passengers on a mission lasting approximately 38 minutes and 25 seconds from liftoff to final payload separation. #VA251 pic.twitter.com/6H6S846SAw— Arianespace (@Arianespace) January 16, 2020 इसरो के यूआर राव सैटेलाइट सेंटर के निदेशक पी कुन्हीकृष्णन ने इस मौके पर कहा, “2020 की शुरुआत एक शानदार लॉन्च के साथ हुई है। इसरो ने 2020 का मिशन कैलेंडर जीसैट-30 के सफल प्रक्षेपण के साथ किया है। खास बात यह है कि इसे जिस एरियन 5 रॉकेट से लॉन्च किया गया, उसका पहली बार 2019 में इस्तेमाल किया गया, तब भी रॉकेट का इस्तेमाल भारतीय सैटेलाइट को लॉन्च करने के लिए हुआ।इंटरनेट स्पीड तेज होगी, डीटीएच सेवाओं में सुधार होगाइसके लॉन्च होने के बाद देश की संचार व्यवस्था और मजबूत हो जाएगी। इससे इंटरनेट की स्पीड बढ़ेगी। साथ ही देश में जहां नेटवर्क नहीं है, वहां मोबाइल नेटवर्क का विस्तार हाेगा। इसके अलावा डीटीएच सेवाओं में भी सुधार होगा।यह एक दूरसंचार उपग्रह है, जो इनसैट सैटेलाइट की जगह काम करेगा। इसमें दो सोलर पैनल और बैटरी लगी है, जिससे इसे ऊर्जा मिलेगी।इसकी जरूरत क्यों पड़ी?पुराने संचार उपग्रह इनसैट सैटेलाइट की उम्र पूरी हो रही है। देश में इंटरनेट की नई तकनीक आ रही है। 5जी पर काम चल रहा है। ऐसे में ज्यादा ताकतवर सैटेलाइट की जरूरत थी। जीसैट-30 उपग्रह इन्हीं जरूरतों को पूरा करेगा। आज की ताज़ा ख़बरें पढ़ने के लिए दैनिक भास्कर ऍप डाउनलोड करें फ्रेंच गुआना के कौरू स्थित स्पेस सेंटर से लॉन्च किया गया जीसैट-30। यूरोपियन स्पेस एजेंसी के रॉकेट एरियन-5 से लॉन्च हुआ जीसैट-30। यह भारत का 2020 का पहला सफल स्पेस मिशन है। जीसैट-30 भारत की संचार व्यवस्था को मजबूत करेगा। फ्रेंच गुआना से उड़ान के बाद सैटेलाइट। लॉन्च के 38 मिनट 25 सेकंड बाद सैटेलाइट अपनी कक्षा में पहुंच गई।

सावधान: अगर ट्रैफिक पुलिस सड़क पर नहीं तो भी कट सकता है चालान

यातायात नियमों के उल्लंघन के ज्यादातर मामलों में पुलिस को चौराहों पर मौजूद रहकर चालान करने की जरूरत नहीं होगी। बल्कि ऐसे मामलों में कहीं दूर नियंत्रण कक्ष में बैठे-बैठे भी ई- चालान किए जा…

सानिया मिर्जा-नादिया किचेनॉक की जोड़ी फाइनल में, सेमीफाइनल में जिदानसेक-बूजकोवा को हराया

होबार्ट. सानिया मिर्जा और यूक्रेन की नादिया किचेनॉक की जोड़ी शुक्रवार को होबार्ट इंटरनेशनल टेनिस टूर्नामेंट के डबल्स के फाइनल में पहुंच गई। सेमीफाइनल में इस जोड़ी ने तमारा जिदानसेक-मैरी बूजकोवा की जोड़ी को सीधे सेटों में 7-6(3), 6-2 से हराया। उन्होंने गुरुवार को अमेरिकन जोड़ी वेनिया किंग और क्रिस्टिना मैकहाले को 6-2, 4-6, 10-4 से हराया था।

सानिया ने मां बनने के दो साल बाद इस टूर्नामेंट में वापसी की। उन्होंने अपने पहले डबल्स मैच में जॉर्जिया की ओक्साना कलशनिकोवा और जापान की मियु कातो की जोड़ी को 2-6, 7-6, 10-3 से हराया था।

सानिया नेअक्टूबर 2017 में पिछला टूर्नामेंट खेला था

6 बार की ग्रैंड स्लैम विजेता सानिया ने पिछला टूर्नामेंट अक्टूबर 2017 में खेला था। तब वे चाइना ओपन में उतरी थीं। इस भारतीय खिलाड़ी की सर्वश्रेष्ठ सिंगल रैंकिंग 27 है, जो उन्होंने 2007 में हासिल की थी। सानिया डबल्स रैंकिंग में नंबर-1 रह चुकी हैं। उनका निकाह 12 अप्रैल 2010 को हैदराबाद में पाकिस्तानी क्रिकेटर शोएब मलिक से हुआ था। अक्टूबर 2018 में सानिया ने बेटे इजहान को जन्म दिया था। इसके बाद से ही वे टेनिस कोर्ट से दूर थीं।



Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
सानिया मिर्जा ने मां बनने के दो साल बाद इस टूर्नामेंट में वापसी की। (फाइल)

गृह मंत्रालय ने मुकेश की दया याचिका राष्ट्रपति को भेजी; पीड़ित की मां बोलीं- लोग मेरी बेटी की मौत पर राजनीति कर रहे

नई दिल्ली. गृह मंत्रालय ने निर्भया मामले के चार दोषियों में से एक मुकेश सिंह की दया याचिका को गुरुवार रात राष्ट्रपति के पास भेज दिया। मुकेश ने हाईकोर्ट से याचिका खारिज होनेके बाद राष्ट्रपति को दया याचिका भेजी थी। वहीं,पीड़ितकी मां आशा देवी ने शुक्रवार को कहा,“अब तक मैंने कभी भी राजनीति की बात नहीं की थी, लेकिन मैं कहना चाहती हूं कि जो लोगों 2012 में सड़कों पर उतरे थे, आज वही लोग मेरी बेटी की मौत पर राजनीतिक फायदे के लिए खेल खेल रहे हैं।’’मुकेश ने दया याचिका का हवाला देकर ट्रायल कोर्ट से 22 जनवरी का डेथ वॉरंट रद्द करने की मांग की है। ट्रायल कोर्ट ने तिहाड़ प्रशासन से दोषियों को तय तारीख को फांसी दिए जाने की स्थिति पर शुक्रवार तक रिपोर्ट दाखिल करने को कहा था।निर्भया केस की मौजूदा स्थितिपटियाला हाउस कोर्ट ने 7 जनवरी को निर्भया के चारों दुष्कर्मियों अक्षय, पवन, मुकेश और विनय के खिलाफ डेथ वॉरंट जारी कर दिया था। इस वॉरंट में कहा गया था कि इन दोषियों को 22 जनवरी को सुबह 7 बजे तिहाड़ जेल में फांसी पर चढ़ाया जाए। इसके बाद दो दोषियों मुकेश और विनय ने सुप्रीम कोर्ट में क्यूरेटिव पिटीशन दायर की। सुप्रीम कोर्ट ने मंगलवार को दोनों की याचिका खारिज कर दी। एक दोषी मुकेश ने राष्ट्रपति को दया याचिका भेजी, दिल्ली हाईकोर्ट से डेथ वॉरंट रद्द करने की मांग की। हाईकोर्ट ने उसकी याचिका खारिज करते हुए निचली अदालत में अर्जी दायर करने को कहा।दिल्ली सरकार ने दया याचिका खारिज करने की सिफारिश करते हुए इसे उपराज्यपाल अनिल बैजल के पास भेजा। उपराज्यपाल ने भी केंद्रीय गृह मंत्रालय से याचिका खारिज करने की सिफारिश की है। मंत्रालय के सूत्रों ने कहा कि दया याचिका पर जल्द ही फैसला ले लिया जाएगा। आज की ताज़ा ख़बरें पढ़ने के लिए दैनिक भास्कर ऍप डाउनलोड करें निर्भया मामले का दोषी मुकेश सिंह।- फाइल

पुरानी इमारत के सामने ही नया संसद भवन बनेगा, साउथ ब्लॉक के पीछे नया प्रधानमंत्री आवास बनेगा

नई दिल्ली. राष्ट्रपति भवन से इंडिया गेट के बीच नई इमारतों के लिए सेंट्रल विस्टा का मास्टर प्लान तैयार कर लिया गया है। इस इलाके में संसद के दोनों सदनों के लिए ज्यादा सदस्यों की क्षमता वाली नई इमारतें बनाई जाएंगी। साथ ही केंद्रीय सचिवालयके लिए 10 नई इमारतें बनाई जाएंगी। राष्ट्रपति भवन, मौजूदा संसद भवन, इंडिया गेट और राष्ट्रीय अभिलेखागार की इमारत को वैसा ही रखा जाएगा। इस प्लान में बीते तीन महीने में छह बार बदलाव किए गए हैं। केंद्रीय शहरी विकास मंत्री हरदीप सिंह पुरी ने भास्कर को बताया कि ये बदलाव सुझावों के मुताबिक किए गए हैं। अभी यह मास्टर प्लान अंतिम नहीं है।सेंट्रल विस्टा के मास्टर प्लान के मुताबिक पुुराने गोलाकार संसद भवन के सामने गांधीजी की प्रतिमा के पीछे नया तिकोना संसद भवन बनेगा। नए संसद भवन में दोनों सदनों लोकसभा और राज्यसभा के लिए एक-एक इमारत होगी, लेकिन सेंट्रल हॉल नहीं बनेगा। यह 13 एकड़ जमीन पर बनेगा। इस जमीन पर अभी पार्क, अस्थायीनिर्माण और पार्किंग है।लोकसभा में अभी 545 सांसद, नए सदन को 900 सांसदों के लायक बनाया जाएगालोकसभा की नई इमारत में सदन के अंदर 900 सीटें होंगी। ऐसा इसलिए किया जा रहा है, ताकि भविष्य में लोकसभा में सीटें बढ़ती हैं तो दिक्कत न हो। नए सदन में दो-दो सांसदों के लिए एक सीट होगी, जिसकी लंबाई 120 सेंटीमीटर होगी। यानी एक सांसद को 60 सेमी की जगह मिलेगी। संयुक्त सत्र के दौरान इन्हीं दो सीटों पर तीन सांसद बैठ सकेंगे। यानी कुल 1350 सांसद बैठ सकेंगे। राज्यसभा की नई इमारत में 400 सीटेंहोंगी। देश की विविधता दर्शाने के लिए संसद भवन की एक भी खिड़की किसी दूसरी खिड़की से मेल खाने वाली नहीं होगा। हर खिड़की अलग आकार और अंदाज की होगी।विजय चौक से इंडिया गेट के बीच 10 इमारतें बनेंगीकेंद्रीय सचिवालय के लिए विजय चौक से इंडिया गेट के बीच चार प्लॉट पर 10 आधुनिक इमारतें बनेंगी। इन्हीं इमारतों में केंद्र सरकार के सभी मंत्रालय होंगे, जबकि अभी केंद्र के 51 मंत्रालयों में से महज 22 मंत्रालय सेंट्रल विस्टा इलाके में हैं। तीन प्लॉट में तीन-तीन 8 मंजिला इमारतें और चौथे प्लॉट में एक इमारत के अलावा कन्वेंशन सेंटर होगा। इमारतों की ऊंचाई इंडिया गेट से कम होगी। एक कन्वेंशन सेंटर भी बनेगा। इसमें 8000 लोगों की बैठक क्षमता होगी। इसमें सात हॉल होंगे। सबसे बड़े हॉल में 3500 लोग बैठ सकेंगे। 2000 की क्षमता का एक, 1000 की क्षमता के दो और 500 की क्षमता के तीन हॉल होंगे। सेंट्रल सेक्रेटेरिएट और उद्योग भवन से सभी इमारतों को जोड़ने के लिए अंडर ग्राउंड पब्लिक मूवर शटल्स होंगी।नया पीएमओ बनेगा, पीछे ही प्रधानमंत्री का आवास होगामौजूदा नॉर्थ ब्लॉक के पीछे उपराष्ट्रपति आवास बनेगा, जो वहां के मौजूदा अस्थाई निर्माणों को हटाकर 90 एकड़ में बनेगा। अभी उपराष्ट्रपति आवास लुटियंस जोन में ही है, लेकिन साउथ और नाॅर्थ ब्लॉक से दूर है। साउथ ब्लॉक की मौजूदा इमारत के पीछे नया पीएमओ बनेगा। उसी के पीछे प्रधानमंत्री आवास बनेगा। अभी प्रधानमंत्री आवास 7 लोक कल्याण मार्ग पर है। इस आवास को साउथ ब्लॉक के पास बनाने से सबसे बड़ा फायदा यह होगा कि प्रधानमंत्री के अपने आवास से दफ्तर और संसद आने-जाने के लिए ट्रैफिक नहीं रोकना पड़ेगा। नॉर्थ और साउथ ब्लॉक में नेशनल हिस्ट्री म्यूजियम बनेगा। दोनों इमारतों के दफ्तर सेंट्रल एवेन्यू की पहली दो इमारतों में शिफ्ट होंगे।राष्ट्रीय अभिलेखागार इमारत के साथ कोई छेड़छाड़ नहीं होगी, बल्कि इस इलाके की सभी हैरिटेज इमारतों को वैसा ही रखा जाएगा। राष्ट्रपति भवन के पीछे नेशनल बायोडायवर्सिटी आर्बरीटम बनेगा। इसमें ग्लास हाउस बनाकर दुर्लभ पौधों को संरक्षित किया जाएगा। यमुना किनारे न्यू इंडिया गार्डन विकसित होगा। आज की ताज़ा ख़बरें पढ़ने के लिए दैनिक भास्कर ऍप डाउनलोड करें A new parliament building will be built in front of the old building, a new prime minister’s house will be built behind the South Block. A new parliament building will be built in front of the old building, a new prime minister’s house will be built behind the South Block.

पुल की रेलिंग तोड़ते हुए अनियंत्रित बस नाले में गिरी, एक छात्रा सहित 17 लोग घायल

बलरामपुर. छत्तीसगढ़ के बलरामपुर में शुक्रवार सुबह हुए एक बस हादसे में एक छात्रा सहित 17 लोग घायल हो गए। तेज रफ्तार बस अनियंत्रित होकर पुल की रेलिंग तोड़ते हुए नाले में जा गिरी। हादसा होते देख स्थानीय ग्रामीणों ने बस में फंसे लोेगों को बाहर निकाला और जिला अस्पताल बलरामपुर भिजवाया। इस दौरान सूचना मिलने पर पुलिस भी मौके पर पहुंच गई। कई गंभीर घायलों को अंबिकापुर मेडिकल कॉलेज रेफर किया जा रहा है। हादसा जरडाडीह के ओमकार नगर में फूहर नाला पर हुआ है।



Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
बलरापुर में हुए हादसे में पुल की रेलिंग तोड़ते हुए बस नाले में जा गिरी।
हादसे के बाद स्थानीय ग्रामीणों ने लोगों को बस से बाहर निकाला।

अभिनेता पवन कल्याण की जन सेना पार्टी का भाजपा के साथ गठबंधन, कहा- 2024 के विधानसभा चुनाव में हमारी जीत होगी

विजयवाड़ा. अभिनेता से राजनेता बने पवन कल्याण की जन सेना पार्टी (जेएसपी) ने गुरुवार को भाजपा के साथ गठबंधन कर लिया। भाजपा नेता जीवीएल नरसिम्हा राव और पवन कल्याण ने इसकी घोषणा की। पवन कल्याण ने कहा, “लोग राज्य में तेलुगू देशम पार्टी (तेदेपा) और वाईएसआर कांग्रेसकी सरकार से तंग आ चुके हैं। वे तीसरे विकल्प की ओर देख रहे हैं। भाजपा-जेएसपी लोगों को वैकल्पिक सरकार देगी। हम साथ में मिलकर 2024 के चुनाव में जीत हासिल करेंगे।” आंध्र प्रदेश में पिछले साल हुए विधानसभा चुनाव में वाईएसआर कांग्रेस भारी बहुमत से सत्ता में आई थी। जेएसपी ने यह चुनाव में वाम दल और बसपा के साथ मिलकरलड़ा था।नरसिम्हा राव ने कहा कि भाजपा-जेएसपी गठबंधन राज्य की राजनीति को साफ करने के लिए हुआ है। यह एक ऐतिहासिक कदम है। आंध्र प्रदेश मेंभाजपा का किसी अन्य पार्टी के साथ कोई राजनीतिक संबंध नहीं है। हम जनता के मुद्दों को लेकर चुनाव में उतरेंगे और विकल्प के तौर पर आगे बढ़ेंगे।तेदेपा ने 2018 मेंभाजपा के साथ गठबंधन तोड़ा थाभाजपा नेता लंका दिनाकरण ने कहा कि राज्य और राष्ट्रहितों को देखते हुए पवन कल्याण के भाजपा में शामिल होने के निर्णय का हम स्वागत करते हैं। उन्होंने तेदेपा और वाईएसआर कांग्रेस पर वंशवाद और भ्रष्ट राजनीति को बढ़ावा देने का आरोप लगाया। दिनाकरण ने कहा, “हम जगन मोहन रेड्‌डी सरकार के जनविरोधी फैसले और आंध्र प्रदेश के तीन राजधानी बनाए जाने जैसे प्रस्तावों के खिलाफ लड़ेंगे। हम जेएसपी के साथ न्यूनतम साझा कार्यक्रम के साथ आगे बढ़ेंगे।” तेदेपा पहले भाजपा के साथ गठबंधन में शामिल थी, लेकिन मार्च 2018 में बाहर आ गई। आज की ताज़ा ख़बरें पढ़ने के लिए दैनिक भास्कर ऍप डाउनलोड करें पवन कल्याण ने 2024 के विधानसभा चुनाव को ध्यान में रखकर भाजपा से गठबंधन का फैसला लिया।

प्रधानमंत्री मेदवेदेव के इस्तीफे के एक दिन बाद संसद ने पुतिन के खास मिखाइल मिशुस्तिन को नया पीएम चुना

मॉस्को. रूस की संसद ने मिखाइल वी. मिशुस्तिन को देश का नया प्रधानमंत्री चुना है। टैक्स विभाग के प्रमुख पद पर रह चुके मिशुस्तिन अब तक रूस की राजनीति में अनजाना चेहरा थे। हालांकि, बुधवार को राष्ट्र के नाम संबोधन के बाद राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन ने उनका नाम प्रधानमंत्री पद के लिए प्रस्तावित किया था।

पुतिन ने बुधवार को ही रूस के संविधान में बदलाव का प्रस्ताव रखा था। उन्होंने राष्ट्र के नाम संदेश में ऐलान किया था कि देश में राजनीतिक ताकतों का बंटवारा ज्यादा बेहतर तरीके से किया जाएगा। यह शक्तियां राष्ट्रपति से लेकर संसद, राज्य परिषद और अन्य सरकारी संस्थानों को भी दी जाएंगी।

पुतिन संविधान में बदलाव का ऐलान करने के बाद प्रधानमंत्री मेदवेदेव से मिले थे।

गैर-राजनीतिक उम्मीदवार के पक्ष में एकतरफा वोटिंग हुई
मिशुत्सिन रूस की फेडरल टैक्स सर्विस के प्रमुख रह चुके हैं। उन्हें अर्थव्यवस्था मामलों में काफी अनुभवी माना जाता है। रूस की संसद डुमा में गुरुवार को मिशुत्सिन को प्रधानमंत्री चुनने के लिए वोटिंग हुई। इसमें उनके पक्ष में 424 में से 383 वोट पड़े। कम्युनिस्ट पार्टी के 41 सांसद वोटिंग के दौरान गैरमौजूद रहे। पुतिन ने बाद में औपचारिक तौर पर मिशुत्सिन को प्रधानमंत्री बनाए जाने के प्रस्ताव पर हस्ताक्षर किए।


पुतिन के ऐलान के बाद पुराने साथी मेदवेदव ने प्रधानमंत्री पद छोड़ा था
पुतिन के इस ऐलान के बाद उनके करीबी साथी दिमित्री मेदवेदेव और उनकी पूरी कैबिनेट ने सरकार से इस्तीफा दे दिया था। मेदवेदेव पुतिन के काफी भरोसेमंद साथी रहे हैं। 2008 में पुतिन को संवैधानिक वजहों से राष्ट्रपति पद छोड़ना पड़ा था (रूस में तब कोई व्यक्ति अधिकतम 2 बार राष्ट्रपति रह सकता था)। तब मेदवेदेव ने पुतिन के लिए प्रधानमंत्री पद छोड़ा और उन्हीं के कहने पर राष्ट्रपति बने। 2012 में मेदवेदेव सरकार ने कानून बदल कर राष्ट्रपति बनने की सीमा को खत्म कर दिया। इसी के साथ पुतिन राष्ट्रपति पद पर वापस लौटे थे।

मेदवेदेव 1990 में राजनीति में उतरे थे, तब उन्होंने पुतिन के साथ काफी करीब से काम किया।

विशेषज्ञ क्या मानते हैं?
रूस की राजनीति की जानकारी रखने वाले लोगों का कहना है कि पुतिन 2024 में राष्ट्रपति पद का कार्यकाल खत्म होने के बाद भी सत्ता पर अपनी पकड़ बरकरार रखना चाहते हैं। इसलिए उन्होंने संविधान में कुछ अहम बदलाव का फैसला किया। अभी यह साफ नहीं है कि वो किस तरह के बदलाव करने वाले हैं। खास बात यह है कि मेदवेदेव के प्रधानमंत्री पद छोड़ने के बाद पुतिन ने उन्हें रूस सुरक्षा परिषद का डिप्टी चेयरमैन नियुक्त कर दिया। मेदवेदेव आने वाले समय में पुतिन के सलाहकार के तौर पर उनके साथ जुड़े रहेंगे।



Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
पुतिन ने संसद में वोटिंग के बाद औपचारिक तौर पर नए प्रधानमंत्री मिखाइल मिशुस्तिन से मिले।

दिल्ली चुनाव: मनीष सिसोदिया के पास कार नहीं, आमदनी भी घटी

दिल्ली के उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया ने गुरुवार को पटपड़गंज विधानसभा क्षेत्र से अपना नामांकन दाखिल किया। मंडावली के तालाब चौक के पास स्थित बदरीनाथ मंदिर में दर्शन के बाद वह समर्थकों के साथ नामांकन…

यूपी पुलिस को मिला गौरव चंदेल का मोबाइल फोन, सात जनवरी को हुई थी हत्या

उत्तर प्रदेश के गाजियाबाद में गौरव चंदेल मर्डर केस में शुक्रवार को पुलिस में बड़ी कामयाबी मिली है। पुलिस को मृतक गौरव चंदेल का मोबाइल बरामद कर लिया है। बताया जा रहा है कि पुलिस ने राहगीर से मोबाइल…

जिस आग से 50 लाख एकड़ में फैला जंगल जल गया, वहां दमकलकर्मियों ने 20 करोड़ साल पुराने 200 पेड़ बचाए

सिडनी. ऑस्ट्रेलिया में आग से पर्यावरण और जैव विविधता को हुए भारी नुकसान के बीच एक अच्छी खबरहै। जहां आग से 50 लाख एकड़ में फैला जंगल जल गया, वहीं दमकलकर्मियों ने 200 विलुप्तप्राय पेड़ बचा लिए। वोलेमी पाइन प्रजाति वाले इन पेड़ों को स्थानीय लोग ‘डायनासौर ट्रीज’ के नाम से भी बुलाते हैं। माना जाता है कि येपेड़ 20 करोड़ साल पुराने हैं। आसपास की आग बुझाने के बाद दमकलकर्मी हेलिकॉप्टर से जंगलों के बीच इन पेड़ों तक भी पहुंचे।

न्यू साउथ वेल्स के पर्यावरण मंत्री मैट केन के मुताबिक, वोलेमी पाइन्स पेड़ दुनिया में केवल ब्लूमाउंटेन्स के जंगली इलाके में ही पाए जाते हैं। ऐसे केवल 200 पेड़ ही बचे हैं। इनकी वास्तविक लोकेशन क्या है, यह गोपनीय रखा गया है।

कुछ इस तरह चलाया गया पेड़ों को बचाने का ऑपरेशन

केन ने कहा कि आग लगते ही हम समझ गए थे कि इन्हें बचाने के लिए हमें एक ऑपरेशन करनाहोगा। आग लगातार इन पेड़ों के पास पहुंच रही थी।दमकलकर्मियों ने पहले वॉटर बॉम्बिंग जेट की मदद से पेड़ों के आसपास पानी और आग बुझाने वाले झाग का छिड़काव किया। आग कम होने पर दमकलकर्मी जंगल में उतरे। डायनासौर ट्रीज के पास जेनरेटर से चलने वालीएक सिंचाई प्रणाली लगाई गई, जिससे पेड़ों पर गर्मी का प्रभाव न हो।

26 साल पहले इन पेड़ों के बचे होने की बात सामने आई

केन के मुताबिक, पहले वोलेमी पाइन पेड़ों को विलुप्त समझ लिया गया था। 1994 में न्यू साउथ वेल्सनेशनल पार्क के रेंजर डेविड नोबल ने इन्हें ढूंढा और इनके बचे होने की बात सामने आई। इससे पहले तक इस पेड़ के सिर्फ जीवाश्म ही देखे गए। वोलेमीपाइन को जंगल में अवैध ढंग से जाने वाले लोगों और पेड़ों को होने वाली बीमारी से खतरा है। पहली बार इन्हें जंगल की आग से बचाने के लिए अभियान चलाया गया है, जो भविष्य में ऐसी स्थिति आने पर हमारे लिए मददगार होगा।



Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
तस्वीर में डायनासोर काल के पेड़ गलियारे में दिख रहे हैं। 2 महीने चले अभियान से ही हरियाली बच सकी।
डायनासौर ट्रीज के नाम से मशहूर ये पेड़ 20 करोड़ साल पुराने हैं।