बारूद के ढेर पर आश्रित 2500 परिवार:पैसों के लालच में ग्रामीण जिंदा बम तक उठा लाते हैं, अब तक 34 गांवों के 500 लोग हाथ-पैर खो चुके