शिक्षाकर्मी आंदोलन का परिणाम है नियमित शिक्षक भर्ती,एसोसिएशन ने कहा-काला अध्याय हमेशा के लिए समाप्त कर दिया सरकार ने

बिलासपुर।छत्तीसगढ़ टीचर्स एसोसिएशन के प्रदेश अध्यक्ष संजय शर्मा, प्रदेश संयोजक सुधीर प्रधान, वाजीद खान, प्रदेश उपाध्यक्ष हरेंद्र सिंह, देवनाथ साहू, बसंत चतुर्वेदी, प्रवीण श्रीवास्तव, विनोद गुप्ता, कोमल वैष्णव, प्रदेश सचिव मनोज सनाढ्य, प्रदेश कोषाध्यक्ष शैलेन्द्र पारीक ने कहा है कि स्कूल शिक्षा विभाग द्वारा आज से नियमित व्याख्याता ई व टी संवर्ग के नियुक्ति आदेश जारी होना प्रारंभ हो गया है DPI ने आज ही 500 व्याख्याता शिक्षकों के आदेश जारी होने की बात कही है।

छत्तीसगढ़ टीचर्स एसोसिएशन के प्रदेश अध्यक्ष संजय शर्मा ने कहा कि 1993 के बाद नियमित शिक्षकों की भर्ती मध्यप्रदेश शासनकाल में बंद कर दी गयी थी उसके बाद शिक्षा कर्मी प्रथा प्रारंभ हुआ था तात्कालिक समाज व शिक्षकों ने इस नई प्रथा का विरोध नही किया था जिसका परिणाम समाज व शिक्षा व्यवस्था पर पड़ा। शिक्षा कर्मियो का आंदोलन शिक्षक पद की गरिमा बनाने के लिए भी था,,अब शिक्षा कर्मियो के आंदोलन के बाद शासकीय नियमित भर्ती से समाज मे शिक्षको का गौरव पुनः वापस मिल रहा है।

शिक्षा कर्मी व्यवस्था न्यायोचित नही थी इसलिए 1998 से ही भर्ती के बाद मातृ संगठन संविलियन की मांग करता रहा व अपने अधिकारों के लिए व नियमित करने नियमित भर्ती करने की मांगों को लेकर सड़क से सदन तक अपनी आवाज बुलंद करता रहा, इस बीच सरकार व समाज ने हमेशा शिक्षा कर्मियों को आंदोनकारी, हड़ताली कर्मचारी का तमगा लगा दिया लेकिन आज उसका परिणाम समाज, शिक्षा व बेरोजगार युवाओं को होने लगा है शिक्षा कर्मी व्यवस्था के विरोध का आज सुखद परिणाम आना प्रारम्भ हो गया है नियमित भर्ती के रूप में आने वाली पीढ़ी व नवीन भर्ती हुए शिक्षकों को शिक्षा कर्मियों के दर्द व भेदभाव का सामना नही करना पड़ेगा, सभी नवीन नियुक्ति होने वाले प्रदेश के युवा शिक्षकों को बधाई शुभकामनाएं व सरकार को धन्यवाद जिन्होंने यह मजबूत कदम उठाया व इस काले अध्याय को हमेशा हमेशा के लिए समाप्त कर दिया।

The post शिक्षाकर्मी आंदोलन का परिणाम है नियमित शिक्षक भर्ती,एसोसिएशन ने कहा-काला अध्याय हमेशा के लिए समाप्त कर दिया सरकार ने appeared first on CGWALL-Chhattisgarh News.